लोहरदगा (झारखंड): देश भर में पिछले एक महीने से ज्यादा वक्त से नागरिकता विधेयक के खिलाफ प्रदर्शन जारी है. इस विरोध प्रदर्शन में छात्रों के साथ-साथ कई पेशेवर लोग भी शामिल हैं. देश के कई हिस्सों में इस प्रदर्शन में हिंसा भी देखी गई है वहीं कई जगहों पर लोग शांतिपूर्ण तरीके से भी अपना विरोध दर्ज कर रहे हैं. लोहरदगा में गुरुवार को संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) समर्थकों के जुलूस पर असामाजिक तत्वों द्वारा पथराव और उसके बाद हुई हिंसा में घायल दर्जनों लोगों में से एक युवक की सोमवार को रांची के एक अस्पताल में मौत हो गई.

झारखंड सरकार ने Corona Virus की निगरानी के लिए जारी किए परामर्श

इस बीच, प्रशासन ने हिंसा के आरोप में 16 लोगों को गिरफ्तार कर लिया है. पूरे जिले में कर्फ्यू सोमवार को भी जारी रहा. पुलिस महानिरीक्षक (अभियान) एवं राज्य पुलिस के प्रवक्ता साकेत कुमार सिंह ने बताया कि लोहरदगा में स्थिति तेजी से शांति की ओर लौट रही है लेकिन अब भी तनाव बना हुआ है. इस घटना में घायल हुए दर्जनों लोगों में से एक युवक नीरजराम प्रजापति की सोमवार को रांची के आर्किड अस्पताल में मौत हो गयी. अस्पताल ने विज्ञप्ति जारी कर युवक की मौत की पुष्टि की है. प्रजापति की मौत पर पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा नेता रघुवर दास ने गहरा दुख व्यक्त किया है, वहीं पुलिस प्रशासन ने हिंसा में उसकी मौत होने की बात से ही इनकार करने की कोशिश की.

साकेत कुमार ने बताया कि इस मामले में अब तक 16 अपराधियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है. पूरे लोहरदगा में 23 जनवरी को लागू किया गया कर्फ्यू सोमवार को भी जारी रहा. सिर्फ दिन में दस से बारह बजे तक इसमें छूट दी गयी. इस बीच जिला प्रशासन ने सभी नागरिकों से अपील की कि वे जिले में शांति एवं विधि व्यवस्था बनाये रखने में पुलिस एवं प्रशासन का सहयोग करें. प्रशासन ने लोहरदगा जिला के सभी नागरिकों को कहा कि वे किसी भी प्रकार के गैर कानूनी कार्य किसी भी परिस्थिति में नही करें एवं किसी प्रकार की अफवाह एवं भ्रामक सूचना न फैलाएं.

झारखंड: सीएए समर्थकों पर पथराव के बाद पूरे जिले में लगा कर्फ्यू, साम्प्रदायिक सद्भाव को बिगाड़ने वालों पर कार्रवाई शुरू

उन्होंने कहा कि यदि ऐसी गतिविधि या कार्य करते हुए कोई पाया जाता है तो संबंधित व्यक्ति के विरुद्ध सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी. जिला प्रशासन ने संदेश में कहा है, ‘‘लोहरदगा जिले के नागरिकों से अपील की जाती है कि वे अफवाह एवं भ्रामक सूचना फैलाने वाले व्यक्तियों से संबंधित सूचना 100 नंबर अथवा जिला नियंत्रण कक्ष में 06526-222513 फोन नंबर पर दें’.’’

संदेश में कहा गया है, ‘‘दिनांक 23.01.2020 को जिन लोगों ने जिले में साम्प्रदायिक सद्भाव को बिगाड़ने की कोशिश की उन्हें चिह्नित कर उनके विरुद्ध सख्त कानूनी कार्रवाई करने की प्रक्रिया प्रारंभ कर दी गई है. इस दौरान हमारा यह प्रयास रहेगा कि कोई भी निर्दोष व्यक्ति प्रशासन की कार्रवाई से अनावश्यक परेशान न हो. अतः सभी नागरिक जिन्हें इस घटनाक्रम के संबंध में कोई भी सूचना है, वे इसकी जानकारी पुलिस एवं प्रशासन को दें.’’

इनपुट भाषा