अहमदाबाद। नेशनल हाई स्पीड रेल कॉर्पोरेशन लिमिटेड (एनएचआरसीएल) ने आज बताया कि अहमदाबाद-मुंबई बुलेट रेल परियोजना के मल्टी-मॉडल साबरमती टर्मिनल के निर्माण के लिए 16 घरेलू कंपनियों ने दिलचस्पी दिखाई है. यह बुलेट रेल मार्ग के किसी स्टेशन की पहली निविदा है.Also Read - बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट के लिए अधिग्रहीत जमीन के लिए मुआवजा राशि से आयकर नहीं काटा जा सकता: कोर्ट

Also Read - देश की पहली बुलेट ट्रेन चलाने का सपना कब होगा पूरा ? रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने बताया ये साल

साबरमती टर्मिनल हब Also Read - चीन में बड़ा रेल हादसा: 300 किलोमीटर की थी रफ्तार, बुलेट ट्रेन के दो डिब्बे पटरी से उतरे, ड्राइवर की मौत

साबरमती टर्मिनल हब मुंबई-अहमदाबाद मार्ग पर अहमदाबाद से यात्रा शुरू करने का स्टेशन होगा. यह महात्मा गांधी के 1930 के ऐतिहासिक दांडी मार्च पर आधारित होगा. एनएचआरसीएल के प्रवक्ता धनंजय कुमार ने कहा कि यहां हुई निविदा-पूर्व बैठक में 16 कंपनियों ने निविदा दस्तावेज पेश किए. उन्होंने नाम का खुलासा किए बिना कहा कि सभी कंपनियां घरेलू हैं.

मुंबई-अहमदाबाद के बीच 2022 तक चलेगी बुलेट ट्रेन, 250 से 3,000 रुपये के बीच होगा किराया

इस निविदा के लिए बोली लगाने की अंतिम तिथि पांच अक्तूबर है. निविदा पिछले महीने निकाली गई थी. अधिकारियों के अनुसार, निविदा आवंटन हो जाने के बाद परियोजना एक महीने के भीतर शुरू हो जाएगी और इसे पूरा होने में 30 महीने का समय लगेगा. इस परियोजना की लागत करीब तीन-चार सौ करोड़ रुपये रहने का अनुमान है.

‘अहमदाबाद-मुंबई बुलेट ट्रेन के यात्री ध्यान दें…’, जापानी भाषा में कैसे बोलें? सीख रहे अधिकारी

बता दें कि 1 लाख करोड़ की परियोजना के लिए जापान वित्तीय मदद मुहैया करवा रहा है. इस प्रोजेक्ट के आड़े जमीन अधिग्रहण आ रहा है. इसके अलावा सियासी विरोध भी खूब हो रहा है. प्रोजेक्ट में में हो रही देरी को देखते हुए अब सीधे प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) ने इस परियोजना की निगरानी शुरू कर दी है. जापान सरकार के बढ़ते दबाव के बीच PMO हर हफ्ते इस प्रोजेक्ट की निगरानी कर रहा है. भारत सरकार अपनी महत्वाकांक्षी परियोजना को देश की आजादी की 75वीं वर्षगांठ, यानी 2022 से पहले पूरा करना चाहती है.

250 से 3000 रुपये तक किराया

खबरों के मुताबिक, मुंबई से अहमदाबाद के बीच प्रस्तावित बुलेट ट्रेन में सफर करने के लिए यात्रियों को 250 से 3,000 रुपये तक किराया देना होगा. यह किराया उनके गंतव्य पर निर्भर करेगा. बुलेट ट्रेन की ‘टॉप स्पीड ’ 320 किमी/घंटा होगी. उम्मीद लगाई जा रही है कि बुलेट ट्रेन के 2022 तक शुरू होने की उम्मीद है. सरकार की इस महत्वाकांक्षी परियोजना के संभावित किराए का पहला आधिकारिक संकेत देते हुए ‘ नेशनल हाई स्पीड रेल कॉरपोरेशन लिमिटेड ’ (एनएचएसआरसीएल) के प्रबंध निदेशक अचल खरे ने बताया था कि किराए की दर मौजूदा अनुमानों और हिसाब पर आधारित है.