नई दिल्ली: सरकार की ओर से कराए गए एक हालिया सर्वेक्षण के अनुसार 10 से 75 साल के आयु वर्ग के 14.6 प्रतिशत लोग (16 करोड़) शराब पीते हैं. छत्तीसगढ़, त्रिपुरा, पंजाब, अरूणाचल प्रदेश और गोवा में शराब का सर्वाधिक इस्तेमाल होता है. सर्वेक्षण में यह पता चला है कि शराब के बाद देश भर में भांग और अन्य नशीले पदार्थों का सर्वाधिक इस्तेमाल होता है. शराब पर निर्भर लोगों में से 38 में से एक ने किसी न किसी इलाज की सूचना दी, जबकि 180 में से एक ने रोगी के तौर पर या अस्पताल में भर्ती होने की सूचना दी. Also Read - भारत आएगा भगोड़ा कारोबारी नीरव मोदी, ब्रिटेन के गृह मंत्रालय ने दी प्रत्यर्पण को मंजूरी

केंद्रीय सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय ने अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान के साथ मिलकर यह सर्वेक्षण किया. यह सर्वेक्षण सभी 36 राज्यों और संघ शासित प्रदेशों में किया गया. इसमें कहा गया है कि राष्ट्रीय स्तर पर 186 जिलों के 2,00,111 घरों से संपर्क किया गया और चार लाख 73 हजार 569 लोगों से इस बारे में बातचीत की गई. Also Read - समुद्री रास्ते भारत आ रहे 8 पाकिस्तानी गिरफ्तार, 150 करोड़ की हेरोइन जब्त

पिछले 12 महीनों में लगभग 2.8 फीसदी (लगभग तीन करोड एक लाख) लोगों ने भांग या उसके अन्य उत्पादों का इस्तेमाल किया. राष्ट्रीय स्तर पर जिन अन्य नशीले पदार्थों का इस्तेमाल होता है उसमें सबसे अधिक 1.14 फीसदी लोग हेरोइन का इस्तेमाल करते हैं. इसके बाद एक प्रतिशत से कुछ कम लोग नशीली दवाइयों का सेवन करते हैं जबकि आधा फीसदी से कुछ अधिक लोग अफीम खाते हैं. Also Read - LG Wing Price in India on Flipkart: फ्लिपकार्ट पर 29,999 रुपये में मिल रहा है 70 हजार वाला LG का ड्यूअल-डिस्प्ले स्मार्टफोन

सर्वेक्षण रिपोर्ट में संकेत दिया गया है कि देश में एक बड़ी आबादी ऐसी है जो नशीले पदार्थ के इस्तेमाल से प्रभावित है और उनलोगों को तत्काल मदद की आवश्यकता है. इसमें कहा गया है कि सभी जनसंख्या समूहों में नशीले पदार्थ का सेवन किया जाता है लेकिन वयस्क पुरुष ज्यादातर इसका उपयोग करने का खामियाजा भुगतते हैं.

सर्वेक्षण यह भी पुष्टि करता है कि भारत में महिलायें भी नशीले पदार्थों का इस्तेमाल करती हैं. हालांकि समस्या की भयावहता पुरुषों की तुलना में महिलाओं में बहुत कम है. रिपोर्ट में कहा गया है कि बच्चे और किशोर चिंता का एक और जनसंख्या समूह है, जिसमें नशीले पदार्थों का उपयोग किया गया है. सर्वेक्षण के प्रधान अनुसंधानकर्ता डा अतुल आम्बेकर के अनुसार शराब के साथ सर्वाधिक इस्तेमाल होने पदार्थों में भांग एवं अन्य नाशीले पदार्थ हैं .

सर्वेक्षण के अनुसार अवैध नशे का सेवन करने वाले 20 लोगों में से केवल एक को नशे समस्या से छुटकारा दिलाने के लिए इलाज मिला अथवा अस्पताल में भर्ती कराया गया . इसमें कहा गया है कि नशे का सेवन करने वाले लोगों में से 44 प्रतिशत ने इसे छोड़ने का प्रयास किया और उनमें से केवल 25 फीसदी को ही कोई मदद अथवा इलाज मिला.

(इनपुट-भाषा)