गढ़चिरौली (महाराष्ट्र): नक्‍सलियों ने महाराष्‍ट्र के विदर्भ में एक बार फिर खूनी खेल खेला है. गढ़चिरौली जिले में माओवादियों ने बुधवार को दोपहर में आईईडी ब्‍लास्‍ट से सुरक्षाकर्मियों को ले जा रहे एक पुलिस वाहन को उड़ा दिया. इसमें 16 जवान शहीद हो गए. इनमें एक वाहन चालक और 15 सुरक्षा बल के जवान हैं.महाराष्ट्र दिवस पर गढ़चिरौली में 24 घंटे में दूसरा नक्सली हमला है. सूत्रों के मुताबिक इस हमले में 200 नक्‍सली शामिल रहे हैं. बता दें कि एक मई को महाराष्‍ट्र का स्‍थापना दिवस है. नक्‍सलियों से आज अलसुबह से कई जगह उत्‍पात कर रखा था. इसके बाद इस वारदात को अंजाम दिया. महाराष्‍ट्र के मंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने इस घटना के बारे में कहा कि हमें आशंका है कि इस हमले में 15 पुलिस जवान और एक ड्राइवर की जान चली गई है. इस घटना पर पीएम नरेंद्र मोदी ने गहरा दुख जताते हुए कहा कि इस हमले के गुनहगारों को छोड़ा नहीं जाएगा.

पुलिस सूत्रों ने बताया कि विस्फोट से पहले नक्सलियों ने एक सड़क निर्माण ठेकेदार के 25 वाहनों को जला दिया. उन्होंने बताया कि मरने वालों में गढ़चिरौली पुलिस की क्विक रिएक्शन टीम के सदस्य शामिल हैं, जो वाहन जलाए जाने वाली जगह का निरीक्षण करने जा रहे थे. इस संबंध में एक अधिकारी ने बताया कि टीम का वाहन जब कुरखेडा क्षेत्र के लेंढारी नाले के पास पहुंचा तो वहां विस्फोट हो गया.

पीएम ने कहा, महाराष्‍ट्र के गढ़चिरौली में हमारे सुरक्षा जवानों पर हुए बर्बर हमला की कड़ी निंदा करता हूं. सभी बहादुर जवानों को नमन करता हूं. उनके बलिदान को कभी भुलाया नहीं जाएगा. मेरी संवेदना उनके परिवारों के प्रति है. ऐसी हिंसा के गुनहगारों को छोड़ा नहीं जाएगा.

महाराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री देवेंद्र फडनवींस ने कहा कि ये जानकर दुखी हूं कि सी-60 के हमारे 16 पुलिस जवान गढ़चिरौली में नक्‍सलियों के एक कायराना हमले में शहीद हो गए हैं. शहीदों के परिवारों के प्रति मेरी संवेदना और प्रार्थना है. मैं डीजीपी और गढ़चिरौली के एसपी के संपर्क में हूं.

सुबह नक्सलियों ने महाराष्ट्र के गढ़चिरौली जिले में एक सड़क निर्माण कंपनी के करीब 25 वाहनों में आग लगा दी. गढ़चिरौली के पुलिस अधीक्षक शैलेश बलकवाडे ने बताया कि यह घटना कुरखेडा तहसील के दादापुर में हुई. उन्होंने बताया, माओवादियों का एक समूह तड़के 3.30 बजे दादापुर में जमा हुआ, जहां पिछले कुछ महीने से राष्ट्रीय राजमार्ग के निर्माण का काम चल रहा है. उन्होंने सड़कों पर खड़े वाहनों में कैरोसिन और डीजल डाल कर आग लगा दी. वाहनों में आग लगाने के बाद नक्सली जंगल में भाग गए. तलाश अभियान शुरू किया गया. (इनपुट भाषा-एएनआई)