नई दिल्‍ली: नोएडा में एक हैरान करने वाला एक वाकया सामने आया है. यूपी की नोएडा सिटी में तीन युवकों ने 16 साल की एक लड़की का अपहरण करने के बाद उसे 51 दिनों तक बंधक बनाकर रखा और लगातार उससे गैंगरेप करते रहे. एक दिन लड़की नोएडा के अज्ञात स्‍थान से भागने में कामयाब हो गई और घर पहुंचकर अपने साथ हुए वाकये की पूरी दास्‍तां सामने रखी. पुलिस ने बताया कि पीड़िता ने दो आरोपियों की पहचान अपने पड़ोसी के तौर पर की है. वहीं, पीडि़त लड़की के परिवारवालों का आरोप है कि शुरू में पुलिस शिकायत लेने से इनकार करती रही है. फिर भी इस मामले की एफआई बाद में दर्ज तब की गई, जब मामला एसपी (क्राइम) के संज्ञान में लाया गया.

अपहरण और रेप करने वाले दरिंदों के चंगुल से छूटकर लड़की अपने घर 22 अप्रैल को पहुंची. उसने बताया कि उसे लगातार 51 दिनों तक बंधक बनाकर रखा गया. लड़की का परिवार फेज3 पुलिस थाना में शिकायत करने गया था, लेकिन पुलिस ने उनसे एक कागज में सिग्‍नेचर कराने के बाद वापस घर लौटा दिया था. इसके बाद इस मामले में कोई कदम नहीं उठाया. पुलिस की ओर से कोई कार्रवाई नहीं होने पर लड़की के पिता ने गौतम बुद्ध नगर एसपी (क्राइम) को 30 अप्रैल को इस घटना के बारे में लिखा.

पीड़ित लड़की का एक फैक्‍ट्री में काम करता है. लड़की के गायब होने के बाद उसने एक शिकायत दो आरोपियों छोटू और सूरज के नाम पर की थी. छोटू मध्‍य प्रदेश के छतरपुर का रहने वाला और सूरज महोबा का रहने वाला है. शिकायत में पीडि़ता के परिवार ने कहा कि उन्‍होंने लड़की का अपहरण किया और उसे एक छोटे कमरे में रखा, जहां उसके साथ 2 मार्च से 22 अप्रैल तक लगातार रेप करते रहे. उन्‍होंने धमकी दी कि अगर वह भागने की कोशिश करेगी तो जान से मार दिया जाएगा. इन दोनों की गैर मौजूदगी में आदित्‍य लड़की के साथ मारपीट करता था. वह सेक्‍टर 135 में रहता है और वह कमरे में मौजूद रहता था. आदित्‍य बांदा जिले का रहने वाला है.

पुलिस ने मामले को संज्ञान में लेते हुए आईपीसी की विभिन्‍न धाराओं 376 डी (गैंगरेप), 506( जान से मारने की धमकी ) और पॉक्‍सो एक्‍ट की 3/4 के तहत मामला दर्ज किया.