नई दिल्ली: तृणमूल कांग्रेस समेत 17 राजनीतिक दल इस मांग के साथ चुनाव आयोग से संपर्क करने की योजना बना रहे हैं कि 2019 का लोकसभा चुनाव बैलट पेपर से कराया जाए. ये 17 विपक्षी दल इस योजना पर चर्चा करने के लिए अगले हफ्ते बैठक करेंगे.

तृणमूल नेता डेरक ओ ब्रायन ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘यह एक ऐसा मामला है जिस पर सभी विपक्षी दल सहमत हैं. हमारी अगले हफ्ते बैठक करने की योजना है. हमने चुनाव आयोग से संपर्क करने और यह मांग करने की योजना बनायी है कि अगला लोकसभा चुनाव मतपत्र से कराया जाए.’’

बुआ-बबुआ नहीं, मोदी-योगी के लिए है मेरे नाम की हैसियत: अमर सिंह

इस मामले पर सभी विपक्षी दलों का समर्थन जुटाने की पहल तृणमूल कांग्रेस की प्रमुख ममता बनर्जी ने बुधवार को की थी जब वह 19 जनवरी की अपनी रैली के वास्ते विपक्षी नेताओं को न्यौता देने के लिए उनसे मिलने संसद आयी थीं. बनर्जी को संसद में तृणमूल कांग्रेस के कार्यालय में उनसे मिलने आये नेताओं से यह अपील करते हुए सुना गया कि वे ईवीएम में छेड़छाड़ की रिपोर्ट तथा 2019 का चुनाव मतपत्र से कराने की मांग को लेकर संयुक्त प्रतिनिधिमंडल चुनाव आयोग के पास भेजें.

दिल्‍ली में विपक्षी नेताओं से मिलीं ममता, पीएम पद की उम्मीदवारी से किया इंकार

तृणमूल कांग्रेस ने इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों की निष्पक्षता पर सवाल खड़ा करते हुए संसद के बाहर प्रदर्शन किया था. उसने मांग की थी कि 2019 के चुनाव में मतपत्र वापस लाया जाए. पश्चिम बंगाल के सत्तारूढ़ दल ने कहा कि यह एक ऐसा साझा कार्यक्रम है जो विपक्षी दलों को एकजुट करेगा.

बौखलाई ममता की केंद्र को चुनौती, हिम्मत हो तो प. बंगाल में लागू करे NRC

रोचक यह है कि बनर्जी ने भाजपा की सहयोगी शिवसेना से भी इस प्रतिनिधिमंडल का हिस्सा बनने की अपील की. शिवसेना प्रमुख उद्भव ठाकरे ने पहले मांग की थी कि 2019 का चुनाव इवीएम के स्थान पर मतपत्र से कराया जाए.