नई दिल्ली: पेट्रोल-डीजल के दाम में लगातार बढ़ोतरी पर नरेंद्र मोदी सरकार को घेरने के लिए कांग्रेस की ओर से आहूत ‘भारत बंद’ को विपक्ष की कुल 18 छोटी-बड़ी पार्टियों का समर्थन मिला है. पार्टी सूत्रों का कहना है कि ‘भारत बंद’ के लिए समाजवादी पार्टी (सपा), बहुजन समाज पार्टी (बसपा), राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा), द्रमुक, तृणमूल कांग्रेस, राष्ट्रीय जनता दल (राजद), मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा), भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा), जनता दल एस (जदएस), राष्ट्रीय लोक दल (रालोद), झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) और कई अन्य दल समर्थन कर रहे हैं.

पार्टी के एक नेता ने कहा, ‘कुल 18 पार्टियां भारत बंद का समर्थन कर रही हैं. सोमवार को निश्चित तौर पर भारत बंद कामयाब होगा.’ सूत्रों के मुताबिक पार्टी के कोषाध्यक्ष अहमद पटेल ने तकरीबन सभी विपक्षी दलों के प्रमुख नेताओं से बात की है.

भारत बंद: पूरे एमपी में बंद का व्यापक असर, कई जिलों में धारा 144 लागू, भारी सुरक्षा बल तैनात

तृणमूल कांग्रेस ने बंद का समर्थन किया है, लेकिन वह इसमें भाग नहीं लेगी. सूत्रों के मुताबिक पश्चिम बंगाल में अपनी सरकार होने की वजह से तृणमूल कांग्रेस वहां जनजीवन ठप्प करने के पक्ष में नहीं है. कांग्रेस ने पेट्रोल और डीजल की कीमतों में लगातार हो रही बढ़ोतरी के खिलाफ आगामी 10 सितंबर को ‘भारत बंद’ बुलाया है.

अल्पसंख्यकों की पक्षधर होने के आरोपों से बाहर निकलने की कोशिश में कांग्रेस, नेता बता रहे कितने मंदिर बनवाएं

पार्टी ने सभी सामाजिक संगठनों और सामाजिक कार्यकर्ताओं का आह्वान किया कि वे ‘भारत बंद’ का समर्थन करें. कांग्रेस का कहना है कि उसकी ओर से बुलाया गया ‘भारत बंद’ सुबह 9 बजे से दोपहर 3 बजे तक रहेगा, ताकि आम जनता को दिक्कत नहीं हो.