चेन्नई| भारत में प्रतिभाओं की कोई कमी नहीं है, इस बात को एक बार फिर साबित किया चेन्नई के रिफत शारूक ने. रिफत ने महज 18 साल की उम्र में दुनिया का सबसे छोटा और हल्का सेटेलाइट बनाकर सभी को चौंका दिया है. इस सेटेलाइट का वजन महज 64 ग्राम है. इतना ही नहीं इस सेटेलाइट को अमेरिका स्थित दुनिया की सबसे बड़ी अंतरिक्ष ऐजेंसी नासा 21 जून को लॉन्च भी करेगी.

रिफत ने इस सेटेलाइट का नाम भारत के पूर्व राष्ट्रपति और वैज्ञानिक एपीजे अब्दुल कलाम के नाम पर कलाम सैट रखा है. उन्होंने ये सैटेलाइट नासा और आईडूडललर्निंग इंक (ग्लोबल एजुकेशन कंपनी) के सामूहिक तत्वाधान में आयोजित ‘क्यूब्स इन स्पेस’ कॉन्टेस्ट के दौरान बनाया. खबरों की माने तो भारतीय छात्र द्वारा बनाया गया ये पहला ऐसा सेटेलाइट होगा जिसे नासा लॉन्च करेगा.

रिफत के अनुसार ये सैटेलाइट रिइनफोर्स्ड कार्बन फाइबर पोलीमर का बना हुआ है. इस सेटेलाइट का मुख्य काम थ्रीडी प्रिंटेड कार्बन फाइबर की क्षमता को डेमोनस्ट्रेट करना है. ये 12 मिनट की फ्लाइट में टेक्नोलॉजी डिमॉन्स्ट्रेटर की तरह काम करेगा और भविष्य में किफायती अंतरिक्ष मिशन की योजना के लिए प्रोत्साहन प्रदान करेगा.

बता दें इससे पहले 2015 में केलाबक्कम में रिफत ने ही जमीन से 1200 ग्राम वजन का हिलियम वैदर बलून लॉन्च किया था. हाल ही अंतरिक्ष में 104 सेटेलेलाइट भेजकर रिकार्ड बनाने वाले भारत को रिफत ने सबसे छोटा और हल्का सेटेलाइट बनाकर गर्व करने का एक और मौका दिया है.