नई दिल्ली: कांग्रेस के पूर्व नेता सज्जन कुमार ने बृहस्पतिवार को दिल्ली उच्च न्यायालय में अर्जी देकर आत्मसमर्पण करने के लिए 31 जनवरी तक का समय मांगा है. गौरतलब है कि उच्च न्यायालय ने गत 17 दिसंबर को 1984 के सिख विरोधी दंगों से जुड़े एक मामले में कुमार को उम्रकैद की सजा सुनाई थी. Also Read - Life Imprisonment To Whole Family: 5 साल पहले हुई थी हत्या, अब उसके ही 8 परिवार वालों को हुई उम्रकैद, जानें क्यों...

Also Read - 1984 anti-Sikh riot case: सु्प्रीम कोर्ट से सज्जन कुमार को बड़ा झटका, जुलाई तक टली सुनवाई

1984 के सिख विरोधी दंगे: सज्जन कुमार पर कोर्ट के फैसले का आप, भाजपा, पंजाब कांग्रेस ने किया स्वागत Also Read - SC ने 1984 के सिख दंगा मामले में उम्रकैद पाए सज्जन कुमार को अंतरिम राहत देने से किया इनकार

शुक्रवार को होगी सुनवाई

अदालत ने कुमार को निर्देश दिया था कि वह 31 दिसंबर तक आत्मसमर्पण कर दें लेकिन उन्होंने पारिवारिक कामकाज खत्म करने के लिए थोड़ा वक्त और मांगा है. कुमार की ओर से पेश हुए वकील अनिल शर्मा ने कहा कि उच्च न्यायालय के आदेश को उच्चतम न्यायालय में चुनौती देने के लिए उन्हें कुछ और वक्त चाहिए तथा कुमार को अपने परिवार, बच्चों और संपत्ति से जुड़ी जिम्मेदारियों के लिए भी समय चाहिए. अर्जी पर संभवत: शुक्रवार को सुनवाई होगी. यह मामला दक्षिण-पश्चिमी दिल्ली की पालम कालोनी में राज नगर पार्ट-1 में 1984 में एक से दो नवंबर तक पांच सिखों की हत्या और राज नगर पार्ट-2 में गुरुद्वारे में आगजनी से जुड़ा है. ये दंगे प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के सिख अंगरक्षकों द्वारा 31 अक्टूबर, 1984 को उनकी हत्या किए जाने के बाद हुए थे जिनमें हजारों सिख मारे गए थे.

1984 के सिख विरोधी दंगे: कांग्रेस नेता सज्जन कुमार को उम्र कैद, कोर्ट ने कहा- सत्य की होगी जीत