बॉलीवुड अभिनेता सलमान खान ने 1993 मुंबई बम धमाको के दोषी याकूब मेमन की फांसी का विरोध किया है। सलमान ने यह सारी बाते ट्वीट करके कही. सलमान के इस ट्वीट के बाद मानो हंगामा मच गया. सलमान का कहना है कि याकूब बेगुनाह है और उसके भाई टाइगर मेमन के गुनाहों की सजा उसे दी जा रही है। आतंकी याकूब मेमन के बचाव में सलमान खान आते ही विवाद के साथ-साथ एक बड़ी बहस भी छिड़ गई है। Also Read - Bollywood Top Movies Released in 2021: सिनेमाघरों में फिर गूंजेंगी तालियां, इस साल रिलीज़ होंगी बड़ी फिल्में

Also Read - Bigg Boss 15 के लिए हो जाइए तैयार, सलमान खान ने बताया जल्द शुरू होने वाला है Selection Process

बता दे कि कल देर रात 1 बजकर 52 मिनट पर सलमान ने ट्वीट कर कहा, ‘टाइगर के लिए भाई फांसी पर चढ़ रहा है. किधर है टाइगर.’इतना ही नहीं इसके बाद रात 2 बजकर 41 मिनट तक सलमान ने लगातार 14 ट्वीट किए।  जिसमें उन्होनें लिखा, ‘ एक निर्दोष मारा जाएगा तो ये इंसानियत का कत्ल होगा। यह भी पढ़े-पिता सलीम खान ने सलमान के ट्वीट को बताया नासमझी, कहा उनके विचारों को महत्व ना दें Also Read - सिनेमाघरों में वापस लौटेगी रौनक, इस साल रिलीज़ होंगी बड़ी फिल्में

वही कुछ लोगो ने सलमान के इस बयान को आपत्तिजनक बताया तो कुछ ने उनका समर्थन किया है। 1993 मुंबई धमाकों में सरकारी वकील उज्जवल निकम ने सलमान के बयान को आपत्तिजनक बताया है। उन्होंने कहा, ‘सलमान अपनी लोकप्रियता का गलत इस्तेमाल कर रहे हैं और कोर्ट के फैसले पर सवाल उठा रहे हैं। सलमान किस सबूत के आधार पर ऐसा कह रहे हैं? उनके ऐसा करने से 257 लोगों की हत्या का दोषी के प्रति सहानुभूति पैदा होगी। हम कानूनी कार्रवाई करने पर विचार कर रहे हैं। मैं सलमान को एक मौका और देने के फेवर में हूं। देखते हैं कि सलमान अपने ट्वीट वापस लेते हैं या नहीं। यह भी पढ़े-याकूब मेमन के समर्थन में सलमान खान ने किए 49 मिनट में 14 ट्वीट्स, जाने ट्वीट के जरिये क्या कहा सलमान ने

बॉलीवुड एक्टर और बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा ने भी सलमान का सपोर्ट किया है। उन्होंने कहा, ‘अगर उसने ऐसा कहा है तो आप उसकी भावनाओं को समझिए।

सलमान खान के पिता सलीम खान ने नाराजगी जताई है। सलमान के पिता सलीम खान ने कहा कि हर व्यक्ति को अपना पक्ष रखने का हक़ है। लेकिन जिस व्यक्ति को किसी मसले की जानकारी ही ना हो, उसके विचार का कोई महत्व नहीं होता।  साथ ही सलमान एक कलाकार हैं इसलिए उन्हें ज्यादा कुछ नहीं पता, लोगों को इस मामले से जुड़े किसी विशेषज्ञ की प्रतिक्रिया लेनी चाहिए। यह भी पढ़े-याकूब मेमन की फांसी के खिलाफ सलमान ने किये 14 ट्वीट, हो सकती है कानूनी कार्रवाई

शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे ने भी सलमान के बयान पर सवाल उठाते हुए कहा कि ऐसी बातों पर ध्यान नहीं दिया जाना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘क्या सलमान देश की न्याय प्रणाली पर सवाल उठाने की कोशिश कर रहे हैं? इसे नजरअंदाज करना चाहिए।

दूसरी तरफ एक्टर रजा मुराद ने कहा कि वो सलमान की निजी राय है। एक लोकतांत्रिक देश का नागरिक होने के नाते उन्हें अपनी राय जाहिर करने का अधिकार है।

वरिष्ठ वकील माजीद मेमन ने सलमान का बचाव किया है। उन्होंने कहा कि ये सलमान की निजी राय है और भारत का नागरिक होने के नाते उन्हें अपने विचार जाहिर करने का पूरा अधिकार है। माजीद ने कहा, ‘ऐसा नहीं है कि सलमान के ऐसा कहने से प्रशासन अपना फैसला बदल लेगा। इसको ज्यादा तवज्जो नहीं देनी चाहिए। यह भी पढ़े-याकूब मेमन की फांसी की तैयारिया शुरू, जाने कितना होगा खर्च

वकील केटीएस तुलसी ने भी सलमान का साथ देते हुए कहा, ‘मैं इस बात से सहमत हूं, मुझे लगता है कि इसपर फिर से विचार होना चाहिए। याकूब ने हमें पाक के खिलाफ सबूत जुटाने में काफी मदद की है। उसने काफी महत्वपूर्ण बातें बताई हैं, जो बात में सच साबित हुई हैं। देश को इस व्यक्ति के प्रति आभार प्रकट करना चाहिए कि उसने हमें इतने महत्वपूर्ण सबूत दिए।

-वरिष्ठ वकील आभा सिंह ने सलमान के बयान का विरोध करते हुए कहा, सलमान खुद एक दोषी हैं जिन्हें पांच साल की सजा मिली है। फिर भी उनमें ये कहने की जुर्रत है कि याकूब बेकसूर है। क्या वो देश की न्याय प्रणाली पर सवाल उठाने की कोशिश कर रहे हैं? उनका बयान बहुत गलत और कानून के खिलाफ है।

योग गुरू बाबा रामदेव ने भी इसपर अपनी प्रतिक्रिया दी है। रामदेव ने कहा कि देशद्रोहियों का साथ देने वाले लोगों के खिलाफ भी मुकदमा होना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘देशद्रोहियों को फांसी देना जरूरी है लेकिन ऐसे लोगों को सबक सिखाना भी जरूरी है जो मानवता और राष्ट्र के दुश्मनों का साथ देते हैं। ओवैसी और ओवैसी की तरह जो भी लोग मानवता और राष्ट्र के शत्रुओं का पक्ष लेते हैं, उनपर मुकदमा होना चाहिए।

गौरतलब है कि 1993 मुंबई बम धमाकों के आरोपी याकूब मेमन को 30 जुलाई को फांसी दी जानी है। याकूब मेमन ने अपने डेथ वॉरंट को चुनौती देते हुए जो याचिका दाखिल की थी, उस पर सुप्रीम कोर्ट सोमवार को सुनवाई करेगा।