बेंगलुरु: कर्नाटक में कांग्रेस के दो विधायकों के इस्‍तीफे के बाद कर्नाटक में सियासत एक बार फिर गर्मा गई है. राज्‍य में सोमवार को कांग्रेस के विधायक आनंद सिंह और विधायक रमेश जर्कोहोली ने भी विधानसभा की सदस्‍यता से इस्‍तीफा दे दिया है.इस घटना क्रम के बाद राज्‍य में भाजपा के प्रमुख बी एस येदियुरप्पा ने कहा कि विजयनगर के कांग्रेस विधायक आनंद सिंह का इस्तीफा सत्तारूढ़ गठबंधन में बड़े पैमाने पर बेचैनी को दर्शाता है और सरकार अपने ही बोझ से गिर जाएगी, जिसके बाद उनकी पार्टी नई सरकार के गठन के लिए संवैधानिक प्रावधानों को खंगालेगी. बीजेपी नेता ने जहां एक ओर नए चुनाव की संभावना को खारिज किया, वहीं, दूसरी ओर कहा कि हम स्थिति पर नजर बनाए रखेंगे. कुछ भी हो सकता है. पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि भाजपा वाले संन्यासी तो हैं नहीं, और सरकार का भविष्य कांग्रेस -जदएस के 20 से अधिक नाराज विधायकों के फैसले पर टिका है.

कर्नाटक सरकार को बड़ा झटका, कांग्रेस एमएलए आनंद सिंह ने विधानसभा से दिया इस्‍तीफा

राज्‍य में सोमवार को कांग्रेस के विधायक आनंद सिंह ने विधानसभा की सदस्‍यता से इस्‍तीफा दे दिया. इसके बाद दूसरे कांग्रेस विधायक रमेश जर्कोहोली ने भी विधानसभा की सदस्‍यता से इस्‍तीफा दे दिया है. उन्‍होंने अपना इस्‍तीफा विधानसभा अध्‍यक्ष को सौंपा है. वहीं, कांग्रेस के दो विधायकों के इस्‍तीफे के बाद कांग्रेस नेता सिद्दारमैया ने बेंगलुरु में अपने निवास पर कांग्रेस विधायकों की मीटिंग बुलाई है.

कर्नाटक भाजपा के प्रमुख ने कहा, राजनीतिक घटनाक्रम की जहां तक बात है तो, मुझे अब तक आनंद सिंह के इस्तीफे के बारे में पता नहीं चला है. एकमात्र बात यह है कि उनका इस्तीफा कांग्रेस में बड़े पैमाने पर बेचैनी को दर्शाता है. हमें इस्तीफों की परवाह नहीं है. हमारी पहली चिंता लोग और सूखा हैं. येदियुरप्पा ने मीडिया से कहा, हम स्थिति पर नजर बनाये रखेंगे. कुछ भी हो सकता है. यदि सरकार गिरती है जो हम जिम्मेदार नहीं होंगे. वह अपने बोझ से गिरेगी.

पूर्व मुख्‍यमंत्री ने कहा, इस सरकार के गिरने के बाद ही हम नई सरकार के गठन के लिए संवैधानिक विकल्पों को खंगाल सकते हैं. चुनाव का कोई सवाल नहीं है. हम 105 सदस्यों के साथ एक मजबूत शक्ति हैं और यदि वर्तमान सरकार गिरती है तो हमारा सरकार बनाने का दावा करने का पूरा अधिकार है.

कांग्रेस विधायक आनंद सिंह ने सोमवार को अपने इस्तीफे की घोषणा की और अपने गृह जिले बेल्लारी में जेएसडब्ल्यू स्टील को 3667 एकड़ जमीन देने का विरोध किया. ऐसी अटकलें हैं कि भाजपा सरकार में मंत्री रहे सिंह भगवा पार्टी में वापस लौट सकते हैं.  वह 2018 के विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस में शामिल हुए थे. वहीं, कांग्रेस के विधायक रमेश जर्कोहोली ने रमेश जर्किहोली ने भी विधानसभा की सदस्‍यता से इस्‍तीफा दे दिया है. उन्‍होंने अपना इस्‍तीफा विधानसभा अध्‍यक्ष को सौंप दिया है. वहीं, कांग्रेस के दो विधायकों के इस्‍तीफे के बाद कांग्रेस नेता सिद्दारमैया ने बेंगलुरु में अपने निवास पर कांग्रेस विधायकों की मीटिंग बुलाई है.