नई दिल्ली. अपने मानवीय दृष्टिकोण को जारी रखते हुए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने भारत में यकृत प्रतिरोपण सर्जरी के लिए दो पाकिस्तानी नागरिकों को वीजा दिये जाने की घोषणा की. मंत्री ने कहा कि उन्होंने इस्लामाबाद में भारतीय उच्चायुक्त से भारत में लिवर प्रतिरोपण के लिए एक पाकिस्तानी महिला नसीम अख्तर को वीजा देने के लिए कहा है.

शरीफ के बेटों को अदालत में पेश होने के लिए दिया गया 30 दिन का समय

शरीफ के बेटों को अदालत में पेश होने के लिए दिया गया 30 दिन का समय

अख्तर के बेटे द्वारा स्वराज से मदद का आग्रह किये जाने के बाद उन्होंने ऐसा किया. विदेश मंत्री ने एक ट्वीट में कहा, मैंने भारतीय उच्चायुक्त से भारत में आपकी मां के लिवर प्रतिरोपण सर्जरी के लिए वीजा देने के लिए कहा है. स्वराज ने कहा कि एक अन्य वीजा लिवर प्रतिरोपण सर्जरी के लिए पाकिस्तानी नागरिक शब्बीर अहमद शाह को दिया गया है.

शाह के पुत्र अली असादुल्लाह ने भारत में अपने पिता के इलाज के लिए स्वराज से सोशल मीडिया पर आग्रह किया था. स्वराज ने ट्वीटर पर कहा, हम लिवर प्रतिरोपण सर्जरी के लिए आपके पिता को वीजा दे रहे हैं.