नई दिल्ली: उत्तर पूर्व दिल्ली के जाफराबाद इलाके में शुक्रवार को बाइक सवार दो लोगों ने एक दुकान के सामने कथित तौर पर गोलियां चलायी. पुलिस ने बताया कि घटना के समय मौके पर दुकान के मालिक की मौजूदगी से लगता है कि यह आपसी दुश्मनी को लेकर किया गया हमला था. यह घटना सीएए-विरोधी प्रदर्शन स्थल के पास हुई है. लेकिन पुलिस का कहना है कि इस घटना का सीएए विरोधी प्रदर्शनों से कोई लेना- देना नहीं है. Also Read - ऐसे हर दूल्हा-दुल्हन को घर बुलाकर डिनर क्यों कराना चाहते हैं पुलिस अफसर, ख़ास है वजह

  Also Read - UP: बीजेपी नेता ने यूपी पुलिस की एसओजी टीम पर लगाया अपनी कार पर फायरिंग करने का आरोप, मामले ने तूल पकड़ा

इस घटना में कोई घायल नहीं हुआ जिसे देखते हुए कुछ प्रदर्शनकारियों ने जामिया मिल्लिया इस्लामिया के पास और शाहीन बाग में गोलीबारी के बाद इसे डराने-धमकाने के लिए की गई गोलीबारी बताया. पुलिस उपायुक्त(उत्तरपूर्व) वेद प्रकाश सूर्या ने कहा कि मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है. उन्होंने कहा कि पुलिस यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि इलाके में कोई सीसीटीवी कैमरा लगाया गया है या नहीं जिससे कथित घटना की फुटेज प्राप्त कर घटनाक्रम और संदिग्धों के बारे में पता लगाया जा सके.

गोलीबारी का सीएए-विरोधी प्रदर्शनों से कोई लेना-देना नहीं: पुलिस
एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि गोलीबारी का सीएए-विरोधी प्रदर्शनों से कोई लेना-देना नहीं है. हमें लगता है कि यह आपसी दुश्मनी का मामला है. यह घटना उस स्थान से केवल 400 दूर घटी जहां बैठकर लोग पिछले महीने से संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं.