नई दिल्ली: कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से मंगलवार को की गई 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज की घोषणा के बाद कहा कि मोदी ने मीडिया को सिर्फ ‘हेडलाइन’ दी, जिसमें प्रवासी श्रमिकों के लिए कोई ‘हेल्पलाइन’ नहीं है. भाजपा ने इसे दुनिया का सबसे बड़ा ‘‘समग्र राहत पैकेज’’ बताया. Also Read - IRCTC 200 Trains List and Stoppage Between Stations: कल से चलेंगी 200 ट्रेन, देखें किस गाड़ी का कहां पर कितनी देर है स्टॉपेज

कांग्रेस और माकपा ने कहा कि भारत प्रवासी मजदूरों पर प्रवासियों की पीड़ा पर प्रधानमंत्री की चुप्पी से निराश है क्योंकि वह इस मुद्दे का निराकरण नहीं कर पाए. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि मोदी सरकार ने देशहित में निर्णय लिए . केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि यह केवल वित्तीय पैकेज नहीं, बल्कि सुधार को गति देने वाला और सोच बदलने वाला कदम है. Also Read - Covid-19 Update in India: देश में 24 घंटे में रिकॉर्ड 8,380 केस सामने आए, मृतकों संख्या की संख्या पहुंची 5 हजार के पार

भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा ने ट्वीट किया, ‘‘कोविड-19 के समय में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आगे बढ़कर देश का नेतृत्व कर रहे हैं . 21वीं सदी भारत की होगी और प्रधानमंत्री ने आज इस पर अमल की आधारशिला रखी है . ‘आत्मनिर्भर भारत’ इस नए बदलाव की दिशा में देश को आगे बढ़ाने के लिए हमारा मंत्र है .’’ Also Read - महामारी विशेषज्ञ का दावा, 2020 में विकसित हो सकता कोरोना वैक्सीन, मगर 2021 के अंत तक इसका उत्पादन संभव

कांग्रेस ने कहा कि मोदी ने मीडिया को सिर्फ ‘हेडलाइन’ दी, इसमें प्रवासी श्रमिकों के दुख-दर्द के लिए कोई ‘हेल्पलाइन’ नहीं है. लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि प्रधानमंत्री की घोषणा से देश निराशा के माहौल से बाहर निकलेगा और उनके आत्मनिर्भरता के मंत्र से देश में नयी ऊर्जा का संचार होगा. नड्डा ने कहा कि यह ‘‘हमारे सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) का करीब 10 प्रतिशत है. प्रधानमंत्री मोदी की सक्रिय पहल से आत्मनिर्भर भारत का निर्माण होगा .’’

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने इस पैकेज पर प्रतिक्रिया देते हुए ट्वीट किया, ‘‘अपने घर जा रहे प्रवासी कामगारों की दिल दहला देने वाली मानवीय त्रासदी को करुणा से देखने तथा मजदूरों की सुरक्षित वापसी की जरूरत है. लाखों प्रवासी श्रमिकों के प्रति आपमें संवेदनशीलता की कमी और उनकी तकलीफों को दूर करने में आपकी नाकामी से भारत बहुत ज्यादा निराश हुआ है.’’

कांग्रेस प्रवक्ता गौरव वल्लभ ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री जी ने हेडलाइन दी है, लेकिन कोई हेल्पलाइन नहीं दी. उन्होंने प्रवासी मजदूरों को उनके घर सुरक्षित भेजने और रास्तों में मजदूरों की मौत की घटनाओं पर कुछ भी नहीं कहा. इससे बहुत निराशा हुई है.’’ हालांकि इससे पहले, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा ने प्रधानमंत्री की घोषणा का स्वागत किया, लेकिन उन्होंने यह भी कहा कि वह अभी इस पैकेज के विवरण की प्रतीक्षा कर रहे हैं.

उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘प्रधानमंत्री की ओर से की गई 20 लाख करोड़ रुपये के पैकेज की घोषणा का स्वागत है और हम ब्योरे की प्रतीक्षा करेंगे. इससे अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने और कर्मचारियों के वेतन देने की तत्काल जरूरत को लेकर सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उपक्रमों में विश्वास पैदा करने में मदद मिलेगी.’’

माकपा नेता सीताराम येचुरी ने कहा कि प्रधानमंत्री प्रवासियों के दुख-दर्द के ज्वलंत मुददे निराकरण करने में विफल रहे. प्रधानमंत्री मोदी ने मंगलवार रात आठ बजे राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में इस पैकेज की घोषणा की. नड्डा ने कहा कि प्रधानमंत्री ने दुनिया के सबसे बड़े समग्र राहत पैकेज की घोषणा की . मोदी सरकार ने समाज के हर वर्ग को समर्थन देने के लिए 20 लाख करोड़ रुपये के वित्तीय पैकेज की घोषणा की.

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा घोषित 20 लाख करोड़ रुपये का पैकेज भारत का अब तक का सबसे बड़ा पैकेज है. यह आत्मनिर्भरता का नया मंत्र है. भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने कहा कि देश के नाम संबोधन में प्रधानमंत्री मोदी ने ‘‘सबका दिल जीत लिया. ’’

उन्होंने ट्वीट किया कि 20 लाख करोड़ के पैकेज के ऐलान से आत्मनिर्भर भारत ने नया संकल्प ले लिया है. भाजपा प्रवक्ता ने कहा, ‘‘21वीं सदी भारत की सदी होगी . देश को ऊर्जा देने के लिए प्रधानमंत्री का हार्दिक धन्यवाद.’’