नई दिल्ली। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने आज संसद में बयान देकर साफ कर दिया कि इराक के मोसुल में 2014 में अगवा किए गए 39 भारतीयों की हत्या हो चुकी है. राज्यसभा में उन्होंने कहा कि एक पहाड़ी पर सभी भारतीयों को दफना दिया गया था. उन्होंने कहा कि 39 में से 38 भारतीयों के शव को लाशों के ढेर से निकाल कर डीएनए टेस्ट किया गया जिसमें इनकी मौत की पुष्टि हुई.Also Read - Drone Attack: इराक के इरबिल इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर ड्रोन अटैक, जहां तैनात हैं US आर्मी

Also Read - Islamic State ने Iraq में किया हमला, 13 पुलिस जवानों की मौत

सुषमा के बयान के 20 प्वाइंट Also Read - Kabul Airport Update: काबुल एयरपोर्ट पर रॉकेट से हमला, मिसाइल सिस्‍टम ने इंटरसेप्‍ट कर मार ग‍िराया

1- इराक़ के मोसुल में अगवा 39 भारतीयों को ISIS ने मार डाला

2- 2014 में अगवा किये गये भारतीयों की हत्या की पुष्टि

3- इराक़ की कंपनी में काम कर रहे भारतीयों की हत्या हुई

4- ISIS ने 40 भारतीयों के साथ बांग्लादेशियों को भी पकड़ा था

5- ISIS ने उन्हें तब कब्ज़े में लिया, जब वो खाना खाने जा रहे थे

6- ISIS ने बांग्लादेशियों को छोड़ा, सभी को इरबिल भेज दिया

7- बांग्लादेशियों के साथ एक भारतीय हरजीत मसीह भी निकला

8- हरजीत मसीह ने अपना नाम अली बताया और निकल गया

9- ISIS ने 40 भारतीयों की गिनती की तो वो 39 ही निकले

10- सभी 39 भारतीयों को ISIS ने इराक के बदूश भेज दिया

11- जांच में पता चला कि बदूश के एक पहाड़ पर सामूहिक कब्र है

12- कब्र की रडार से जांच की गई तो 39 शवों का पता चला

13- खुदाई कर शवों को निकाला गया तो हिंदुस्तानी कड़े मिले

14- शवों से लंबे बाल और कड़े मिले, जिससे भारतीय होने का शक

15- कुछ शवों के जूते ऐसे थे जो इराक़ में नहीं बने हुए थे

16- लापता 39 भारतीयों के रिश्तेदारों का DNA सैंपल भेजा गया

17- 38 लोगों का DNA मैच हुआ, एक भारतीय का 70% DNA मैच हुआ

18- पंजाब, हिमाचल, बिहार, बंगाल से DNA सैंपल बगदाद भेजे गए

19-  भारतीय पंजाब के 4 हिमाचल और 4 बंगाल और बिहार के हैं

20- जनरल वी के सिंह सभी भारतीयों का शव लाने खुद जाएंगे इराक

सुषमा के इस बयान के साथ ही साल 2014 से अगवा हुए 39 भारतीयों पर चला आ रहा सस्पेंस खत्म हो गया है. इनके परिजनों ने सरकार और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से इन्हें जल्द से जल्द ढूंढ़ने की गुहार लगाई थी. तभी से सरकार जोर शोर से इनकी तलाश में जुटी हुई थी. इस बीच 2015 में हरमीत मसीह ने सनसनीखेज खुलासा करते हुए बताया कि सभी 39 लोगों की आईएस ने हत्या कर दी है. उसने बताया कि एक पहाड़ी पर सभी को एक लाइन में खड़ा करके गोली मार दी गई. इसमें वह किसी तरह बचकर भाग निकला.  

ISIS ने अगवा 39 भारतीयों की कर दी थी हत्या, लाशों के ढेर से निकाले शवों से हुई पहचान

ISIS ने अगवा 39 भारतीयों की कर दी थी हत्या, लाशों के ढेर से निकाले शवों से हुई पहचान

हालांकि, जुलाई 2017 में सुषमा स्वराज ने संसद में कहा था कि सरकार इन भारतीयों की तलाश जारी रखेगी. उन्होंने कहा कि बिना सबूत इन लोगों को मृत घोषित करना पाप हैऔर इस पाप की भागी मैं नहीं बनूंगी. मैंने कभी नहीं कहा कि वे जिंदा हैं और न ही मैंने ये कहा कि वे मारे गए हैं. इराक के विदेश मंत्री पिछले दिनों भारत आए थे और उन्होंने यह भरोसा दिया है कि अब वह जो भी जानकारी देगा, सबूत के साथ ही देगा. सुषमा स्वराज ने कहा कि वह पुख्ता सबूत मिलने के बाद ही इन भारतीयों के परिजनों को जानकारी देंगी. उन्होंने साथ ही कहा कि वह इस मसले को लेकर इन परिवारों से 12 बार मुलाकात कर चुकी हैं.