थेनीः तमिलनाडु के थेनी जिले में कुरांगनी पहाड़ के वन में रविवार को अचानक आग लग जाने से एक पर्वतारोहण प्रशिक्षण शिविर में करीब 20 छात्र फंस गए. अब तक12 छात्रों को बाहर निकाला गया है.
रक्षा मंत्री ने निर्मला सीतारमण ने बताया कि10-15 छात्र बचाये जाने के बाद पहाड़ से नीचे आ रहे हैं. मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी ने विद्यार्थियों को बचाने के लिए रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण से संपर्क किया था और रक्षा मंत्री थेनी के जिलाधिकारी के संपर्क में हैं.

सीतारमण ने कई ट्वीट कर बताया कि कोयंबटूर के समीप वायुसेना के सुलुर अड्डे से दो हेलीकॉप्टर बचाव अभियान में सहायता पहुंचाने के लिए भेजे जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि कुरांगनी में 20 छात्रों के जंगल में आग में फंसे होने के मुद्दे पर तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के अनुरोध पर हमने वायुसेना को बचाव में मदद का निर्देश दिया है.

शाम करीब सात बजे सीतारमण ने ट्वीट किया कि उनकी थेनी के जिलाधिकारी से बात हुई है और उन्होंने बताया कि 10-15 बच्चे पहाड़ से नीचे आ रहे हैं. उन्होंने जिलाधिकारी के हवाले से बताया कि एक मेडिकल टीम भी मौके पर भेजी गई है और समीप के चाय बागान के कर्मचारी भी बचाव अभियान में मदद कर रहे हैं.

यहां अधिकारियों ने बताया कि स्थानीय जनजातियों और अग्नि एवं बचाव सेवा एवं वनकर्मियों ने 12 छात्रों को बचाया है और अन्य को बचाने का प्रयास चल रहा है . पुलिस के अनुसार कोयंबटूटर और इरोड के विद्यार्थी कुरांगई- कोझुकु पहाड़ी क्षेत्र में प्रशिक्षण ले रहे थे उसी दौरान दोपहर में अचानक आग लग गई. जिले के पुलिस अधीक्षक वी बास्करण और राजस्व और वन अधिकारी फंसे हुए विद्यार्थियों को बचाने के लिए कदम उठा रहे हैं.