मुंबई| साल 2018 का आगाज़ हो गया है. 2017 के तरह ही इस साल भी देश में सियासी सरगर्मी तेज रहने के आसार हैं. 2018 में 8 राज्यों में विधानसभा चुनाव होने हैं. इसे 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले का सेमीफाइनल माना जा रहा है. इसके अलावा तमिलनाडु में साउथ के सुपरस्टार रजनीकांत ने भी नई पार्टी बनाई है ऐसे में साल 2018 को देश की सियासत के लिए काफी अहम माना जा रहा है.Also Read - Farmer's Agitation Updates: क्या आज खत्म हो जाएगा किसान आंदोलन, सरकार से जवाब के इंतजार में किसान

Also Read - Goa: पूर्व मुख्‍यमंत्री रवि नाइक ने दिया कांग्रेस के व‍िधायक पद से इस्तीफा, BJP में हो सकते हैं शामिल

आइए नजर डालते हैं ऐसे ही राजनीतिक घटनाक्रमों पर: Also Read - क्‍या शिवसेना कांग्रेस के नेतृत्‍व वाले UPA में होगी शामिल? संजय राउत ने दिया ये जवाब

  • फरवरी 2018 में मेघालय, नागालैंड और त्रिपुरा में विधानसभा चुनाव हो सकते हैं. नागालैंड में बीजेपी सरकार में शामिल है. वह त्रिपुरा और मेघालय में सरकार बनाने की कोशिश करेगी.
  • इसी साल अप्रैल में दक्षिण के राज्य कर्नाटक में विधानसभा चुनाव होने हैं. वहां फिलहाल कांग्रेस की सरकार है और बीजेपी राज्य में सत्ता हासिल करने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा रही हैं. पार्टी अध्यक्ष अमित शाह खुद वहां रणनीति बनाने में जुटे हैं.

क्या 2018 में बदलेगी देश की सियासत, कांग्रेस के आएंगे अच्छे दिन?

क्या 2018 में बदलेगी देश की सियासत, कांग्रेस के आएंगे अच्छे दिन?

  • इस साल दिल्ली समेत अन्य राज्यों में राज्यसभा चुनाव होंगे. दिल्ली में आम आदमी पार्टी किसे उपरी सदन पहुंचाती है, इसपर सभी की नजरें हैं.
  • इस साल कई राज्यों में लोकसभा सीटों पर उपचुनाव होंगे. यूपी में बीजेपी की सत्ता आने के बाद योगी आदित्यनाथ सीएम और केशव प्रसाद मौर्या डिप्टी सीएम बने. दोनों की लोकसभा सीट गोरखपुर और फूलपुर में इस साल उपचुनाव होंगे. इसके आलावा बिहार की अररिया, राजस्थान की अलवर और अजमेर, जम्मू-कश्मीर में अनंतनाग, महाराष्ट्र की भंडारा गोंदिया और पश्चिम बंगाल की उलूबेरिया की लोकसभा सीटों पर उपचुनाव होंगे.
  • इसके अलावा कई राज्यों में विधानसभा सीटों पर उपचुनाव होंगे.
  • इसी साल नवंबर में मिजोरम में भी विधानसभा चुनाव होंगे. यहां फिलहाल कांग्रेस सरकार में है.
  • साल के अंत में राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव होंगे. तीनों राज्यों में मौजूदा समय में बीजेपी की सरकार हैं. कांग्रेस, बीजेपी को सत्ता से बेदखल करने के लिए कड़ी मेहनत कर रही हैं.
  • इस साल तमिलनाडु की सियासत पर भी सभी की नजर होगी. वहां दिवंगत मुख्यमंत्री जयललिता की मृत्यु के बाद सियासी उथलपुथल मची हुई है. वहीं, सुपरस्टार रजनीकांत ने भी अपनी पार्टी बना ली है.
  • 2018 शिवसेना और बीजेपी के रिश्तों के लिहाज से भी अहम साल है. शिवसेना लगातार सत्ता छोड़ने की बात कर रही हैं. यदि वह इस साल ऐसा कोई निर्णय लेती है तो महाराष्ट्र में बीजेपी की सरकार पर संकट आ सकता है.
  • ऐसा भी हो सकता है कि 2018 के अंत में होने वाले 3 राज्यों के चुनावों के साथ ही आम चुनाव हो जाए.

सियासी नजरिए से देखा जाए तो 2018 काफी अहम साबित होने जा रहा है. गुजरात में अच्छा प्रदर्शन करने के बाद कांग्रेस की नजरें जहां बीजेपी को मात देने पर होगी, वहीं बीजेपी मोदी मैजिक के सहारे सत्ता पर अपनी पकड़ और मजबूत करने की कोशिश करेगी. गुजरात की तरह बाकी राज्यों में भी मोदी-राहुल की सीधी भिड़ंत देखना काफी दिलचस्प होगा. पिछले कुछ समय में राहुल ने अपने धारदार भाषणों और रणनीति से बीजेपी को परेशान किया है. ऐसे में आने वाले वक्त में बीजेपी के लिए सत्ता की लड़ाई आसान साबित नहीं होने वाली.