नई दिल्ली: महिलाओं के लिए हज पर जाने के लिए मेहरम की पाबंदी हटाए जाने के बाद इस बार हज जाने वाली अकेली महिलाओं की संख्या में दोगुना इजाफा हुआ है. ‘मेहरम’ यानि वो पुरुष साथी जिससे इस्लाम के मुताबिक़ महिला का निकाह वर्जित हो, के बिना हज पर जाने की इजाजत मिलने के बाद इस साल 2,340 महिलाएं अकेले हज पर जाने की तैयारी में हैं. यह संख्या पिछले साल के मुकाबले करीब दोगुनी है. Also Read - हज जाने वालों के लिए जारी हुए दिशा-निर्देश, मास्क लगाना होगा, पीने को मिलेगा जमजमज का बोतल बंद पानी

Also Read - तीर्थयात्रा उद्योग और हज यात्रा से 'तेल' की तरह बंपर कमाई करेगा सऊदी अरब!

GST लागू होने के बाद राज्यों की आमदनी घटी, सुशील मोदी के नेतृत्व वाली कमेटी करेगी समीक्षा Also Read - Mehram clause was cancelled by Saudi Government: Owaisi | हज के लिये महरम की जरूरत को काफी पहले खत्म कर दिया गया : असदुद्दीन ओवैसी

सभी 2340 महिलाओं के आवेदन मंजूर

भारतीय हज समिति के मुताबिक, ‘मेहरम’ के बिना हज पर जाने के लिए कुल 2340 महिलाओं का आवेदन मिला और सभी को स्वीकार कर लिया गया. इन महिलाओं के रहने, खाने, परिवहन और दूसरी जरूरतों के लिए विशेष सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी. हज कमेटी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मकसूद अहमद खान के मुताबिक  इस बार कुल 2340 महिलाएं मेहरम के बिना पर हज पर जा रही हैं. उन्होंने कहा इस बार जितनी भी महिलाओं ने बिना मेहरम के हज पर जाने के लिए आवेदन किया था कमेटी ने उन सबके आवेदन को लॉटरी के बिना ही स्वीकार कर लिया.

Makar Sankranti 2019: मकर संक्रांति पर क्‍यों बनाई जाती है खिचड़ी? आपकी राशि से ये है संबंध…

सबसे ज्यादा आवेदन केरल से

पिछले साल करीब 1300 महिलाओं ने आवेदन किया था. नई हज नीति के तहत पिछले साल 45 वर्ष या इससे अधिक उम्र की महिलाओं के हज पर जाने के लिए ‘मेहरम’ होने की पाबंदी हटा ली गई थी. ‘मेहरम’ वो शख्स होता है जिससे इस्लामी व्यवस्था के मुताबिक महिला की शादी नहीं हो सकती अर्थात पुत्र, पिता और सगे भाई. मेहरम की अनिवार्य शर्त की वजह से पहले बहुत सारी महिलाओं को परेशानी का सामना करना पड़ता था और कई बार तो वित्तीय एवं दूसरे सभी प्रबन्ध होने के बावजूद सिर्फ इस पाबंदी की वजह से वे हज पर नहीं जा पाती थीं. खान ने कहा कि पिछले साल की तरह इस बार भी ‘मेहरम’ के बिना हज पर जाने के लिए ज्यादातर आवेदन केरल से आए, हालांकि इस बार उत्तर प्रदेश, बिहार और कुछ उत्तर भारतीय राज्यों से भी महिलाएं अकेले हज पर जा रही हैं.

कोई भी अदालत यह तय नहीं कर सकती कि राम अयोध्या में जन्मे थे या नहीं: विहिप

विशेष सुविधाओं के किए गए इंतजाम

उन्होंने कहा, ‘‘बिना मेहरम के जा रही महिलाओं को हज के प्रवास के दौरान विशेष सुविधाएं दी जाएंगी. उनको रहने, खाने और परिवहन की बेहतरीन सुविधाएं दी जाएंगी. उनकी सुरक्षा का भी पूरा ध्यान दिया जाएगा और मदद के लिए पिछले साल की तरह ‘हज सहायिकाएं’ भी मिलेंगी.’’ भारतीय हज समिति को 2019 में हज के लिए ढाई लाख से ज्यादा आवेदन मिले जिनमें 47 फीसदी महिलाएं हैं. इस साल 1.7 लाख लोग हज पर जाएंगे.