नई दिल्ली: जम्मू कश्मीर में इस साल अब तक पथराव करने वालों के खिलाफ 759 मामले दर्ज किए गए हैं. केंद्रीय गृह राज्य मंत्री हंसराज अहीर ने राज्यसभा को बुधवार को एक प्रश्न के लिखित जवाब में यह जानकारी दी. Also Read - UPDATE, अफगानिस्तान में गुरुद्वारे पर हुए आतंकवादी हमले में 27 लोगों की मौत, 8 घायल

उन्होंने यह भी बताया कि दो दिसंबर 2018 तक जम्मू कश्मीर में सुरक्षा बलों ने 238 आतंकवादियों को मार गिराया. अहीर ने बताया कि जम्मू कश्मीर में आतंकवाद विरोधी अभियानों के दौरान पथराव की घटनाएं हुयीं. राज्य सरकार से मिली जानकारी के अनुसार, वर्ष 2018 में पथराव करने वालों के खिलाफ 759 मामले दर्ज किए गए. उन्होंने बताया कि राज्य में इस साल दो दिसंबर तक आतंकवादी हिंसा की 587 घटनाएं हुईं जिनमें 86 सुरक्षा कर्मी और 37 नागरिक मारे गए. Also Read - सात महीने की हिरासत के बाद रिहा होंगे उमर अब्दुल्ला, जम्मू-कश्मीर सरकार ने जारी किए आदेश

जम्मू कश्मीर: मुठभेड़ में चार आतंकवादी मारे गए, तीन दिन में 10 ढेर Also Read - फारूक अब्दुल्ला ने PM मोदी को लिखा पत्र, 4G इंटरनेट सेवाओं को बहाल करने की मांग

2017 में 200 आतंकवादी मारे गए
वर्ष 2017 में इसी अवधि के दौरान राज्य में आतंकवादी हिंसा की 329 घटनाएं हुईं जिनमें 200 आतंकवादी मारे गए. इस हिंसा में 74 सुरक्षा कर्मियों और 36 आम लोगों की भी जान गई. अहीर ने बताया कि जम्मू कश्मीर में हिंसा सीमा पार से प्रायोजित होती है, सीमा पार से ही हिंसा को समर्थन मिलता है और इसका घुसपैठ से सीधा संबंध है. (इनपुट भाषा)