नई दिल्ली: गोवा से मुंबई आ रही तेजस एक्‍सप्रेस में रविवार (15 अक्टूबर) को फूड पॉइजनिंग होने से 24 से ज्यादा यात्री बीमार हो गए. इनमें से 3 की हालत ज्यादा खराब होने की वजह से उन्हें आईसीयू में भर्ती कराया गया है. फूड पॉइजनिंग की खबर मिलते ही ट्रेन को कोंकण के चिपलून स्टेशन पर रोका गया. बीमार पैसेंजर्स को लाइफ केयर हॉस्पिटल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया. Also Read - Indian Railways: रेलवे की चालाकी, चुपके से बढ़ा दिया इन ट्रेनों का किराया, मचा बवाल तो कही ये बात...

जानकारी के अनुसार, सुबह नाश्ता करने के बाद लोगों को दिक्कत शुरू हुई. करीब 220 यात्रियों को नाश्‍ता दिया गया था. ट्रेनों में खाना आईआरसीटीसी मुहैया कराती है. खाने में वेज और नॉन वेज दोनों होता है. आईआरसीटीसी ने जांच शुरू कर दी है. खाने का सैंपल जांच के लिए लिया गया है.

Rajnath singh says china understand india strength | डोकलाम विवाद पर बोले राजनाथ, चीन को समझ आ गई हमारी ताकत

Rajnath singh says china understand india strength | डोकलाम विवाद पर बोले राजनाथ, चीन को समझ आ गई हमारी ताकत

Also Read - Real Heroes: चलती Train में चढ़ रही थी महिला, पैर फिसला, महिला सिपाही ने लगाई दौड़...देखें जांबाजी का Video

 IRCTC के प्रवक्ता पिनाकिन मोरावाला के अनुसार, ‘हमारा गोवा में कोई बेस किचन नहीं है इसलिए इस ट्रेन की केटरिंग सेवा आउटसोर्स की गई है. यात्रियों को सुबह नाश्ते में उपमा, ऑमलेट, सैंडविच और जूस दिया गया था.’ 992 यात्री क्षमता वाली इस ट्रेन में 292 यात्री सफर कर रहे थे. इनमें से 220 को सुबह नाश्ता परोसा गया था. Also Read - Indian Railway: Holi से पहले रेलवे की सौगात, 1 मार्च से चलेंगी कई स्पेशल ट्रेनें, जानिए क्या है Timing

नाश्ते के बाद हुई परेशानी
ट्रेन में सुबह का नाश्ता करने के बाद लोगों को दिक्कत होनी शुरू हुई. ये ट्रेन गोवा और मुंबई के बीच चलती है. तत्कालीन रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने मई, 2017 में तेजस एक्सप्रेस को छत्रपति शिवाजी स्टेशन से हरी झंडी दिखाकर रवाना किया था. ये प्रीमियम रेलगाड़ी मुंबई से गोवा के करमाली के बीच हफ्ते में पांच दिन चलती है.