25 April, 2021 Coronavirus Live Updates: देश कोरोना का कहर जारी है. भारत में बीते चार दिनों से कोरोना के 3 लाख से ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं. कोरोना के कहर को कम करने के लिए देश के कई राज्यों में लॉकडाउन (Lockdown) जैसी पाबंदियां लागू हैं फिर भी मामलों में कमी नहीं आ रही है. इस बीच रविवार को एक बार फिर कोरोना ने पुराने सभी रिकॉर्ड तोड़ दिये. बीते 24 घंटे में भारत में कोरोना के करीब 3.5 लाख नए केस सामने आए और इस दौरान 2700 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई.Also Read - Corona ki Caller Hategi! कॉल से पहले आने वाली कोरोना कॉलर ट्यून से जल्द मिलेगी मुक्ति, जानें अपडेट

ऐसा पहली बार हुआ है, जब कोरोना से एक दिन में इतने लोगों की मौत हुई है. स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से जारी ताजा आंकड़ों के मुताबिक बीते 24 घंटे में कोरोना के 3,49,691 नए मामले सामने औए और इस दौरान 2,767 लोगों की मौत हो गई. इसके साथ ही देश में संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर 1,69,60,172 पहुंच गया है और अब तक 1,92,311 लोग इस जानलेवा वायरस के शिकार हो चुके हैं. भारत में कोरोना के अभी 26,82,751 एक्टिव मरीज हैं और 1,40,85,110 मरीज इलाज के बाद ठीक हो चुके हैं. Also Read - Corona Update: कोरोना के तेजी से बढ़ते मामलों के बीच केंद्र का राज्यों को जल्द से जल्द जांच बढ़ाने का निर्देश

Also Read - Lockdown Return! क्या फिर शुरू होगा लॉकडाउन? Omicron के खतरों को देखते हुए जानें केंद्र ने राज्यों को क्या दी सलाह

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक महाराष्ट्र, दिल्ली, उत्तर प्रदेश समेत 10 राज्यों से कोरोना के 74 फीसदी से ज्यादा केस रिपोर्ट किये जा रहे हैं. मंत्रालय ने बताया कि महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, कर्नाटक, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश, केरल, गुजरात, तमिलनाडु, राजस्थान, बिहार और पश्चिम बंगाल समेत 12 राज्यों में संक्रमण के दैनिक मामलों में लगातार वृद्धि देखी जा रही है.

उधर, AIIMS प्रमुख डॉक्टर रणदीप गुलेरिया ने बढ़ते कोरोना पर काबू पाने के लिए Lockdown का नया फॉर्मूला सुझाया. NDTV से बात करते हुए डॉक्टर रणदीप गुलेरिया (Randeep Guleria) ने कहा कि, जिन इलाकों में कोविड पॉजिटिविटी रेट (Positivity Rate) 10 फीसदी के पार चला गया हो, वहां लॉकडाउन (Lockdown) जरूर लगाया जाए.

NDTV की रिपोर्ट के अनुसार, गुलेरिया ने माना कि देश का हेल्थकेयर सिस्टम सरकार द्वारा वायरस के फैलने का अनुमान लगा पाने में नाकामी की कीमत चुका रहा है. वायरस के ज्यादा संक्रामक वैरिएंट और म्यूटेंट तेजी से संक्रमण फैला रहे हैं. विशेषज्ञों का कहना है कि तेजी से बढ़ते सक्रिय मरीजों का बोझ कम करने के लिए संक्रमण की चेन को तोड़ना जरूरी है.