लेह: पिछले महीने वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर भारतीय-चीनी सैनिकों के बीच हुई झड़प के बाद भारत ने अतिरिक्त तीन ब्रिगेडों की तैनाती की है और अब यहां करीब 30,000 भारतीय जवान, चीनी सैनिकों के सामने तैनात हैं. सेना ने रूसी सुखोई-30 लड़ाकू विमानों, मिग -29 जेट, इल्यूशिन -76 हैवी-लिफ्ट विमानों, एन -32 ट्रांसपोर्ट विमानों, एमआई-17 यूटिलिटी हेलिकॉप्टरों और बीएमपी-2 /2 के इन्फेंट्री कॉम्बेट वाहनों को भी सेवा में रखा है. Also Read - अमेरिका में चीन के खिलाफ प्रदर्शन, प्रदर्शनकारियों ने पूछा-वायरस कौन, जवाब मिला ये-देखें वीडियो

उच्च पदस्थ सूत्रों ने आईएएनएस को बताया कि सामान्य तौर पर छह ब्रिगेड, यानी दो डिवीजनों को लद्दाख में एलएसी के पास तैनात किया जाता है. हालांकि, 15 जून की हिंसक झड़प के बाद, जिसमें एक कमांडर सहित 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए थे और 70 से अधिक सैनिक घायल हो गए, सेना ने तीन अतिरिक्त ब्रिगेड (प्रत्येक ब्रिगेड में लगभग 3,000 सैनिक और सहायक तत्व होते हैं) तैनात किया है. Also Read - चीन के साथ तनाव के बीच सेना का बड़ा कदम, इजराइल से खरीदे ड्रोन को लेजर-गाइडेड मिसाइलों से लैस करेगा भारत

सूत्रों ने बताया कि पंजाब, हिमाचल प्रदेश और उत्तर प्रदेश से तीन अतिरिक्त ब्रिगेडों के लिए लगभग 10,000 सैनिकों को लाया गया. सूत्रों ने कहा कि 14 कोर कमान के अंतर्गत एलएएसी के पास सेना की तीन डिविजन तैनात है. 14 कोर कमान की स्थापना 1962 में चीन के साथ युद्ध के दौरान हुई थी और यह देश में सेना की सबसे बड़ी कोर कमान है. Also Read - Jammu-Kashmir: पुंछ में पाकिस्तान ने दागे गोले, कुलगाम में आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच शुरू हुई मुठभेड़

सूत्रों ने कहा कि पाकिस्तान के खिलाफ 2017 के सर्जिकल स्ट्राइक में अहम भूमिका निभाने वाले कुछ पैरा स्पेशल फोर्स को भी लद्दाख भेजा गया है.

सूत्रों ने कहा कि गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प के बाद से भारतीय सेना ने सैन्य बलों व हथियारों की तैनाती बढ़ाते हुए अमेरिका से खरीदे गए एम-777 अल्ट्रा-लाइट हॉवित्जर को भी तैनात किया है.

सूत्रों ने कहा कि वायु सेना के परिवहन विमान सी-17 ग्लोबमास्टर 3 का इस्तेमाल सैनिकों को एयरलिफ्ट करने, इन्फेंट्री कॉम्बैट वाहनों और टी-72 /टी-90 जैसे भारी टैंक के ट्रांसपोर्ट के लिए किया गया है.

सैन्य सूत्रों के अनुसार, सेना ने रूसी सुखोई-30 लड़ाकू विमानों, मिग -29 जेट, इल्यूशिन -76 हैवी-लिफ्ट विमानों, एन -32 ट्रांसपोर्ट विमानों, एमआई-17 यूटिलिटी हेलिकॉप्टरों और बीएमपी-2 /2 के इन्फेंट्री कॉम्बेट वाहनों को भी सेवा में रखा है.

सूत्रों ने कहा कि एलएसी के पास दौलत बेग ओल्डी (डीबीओ) सेक्टर क्षेत्र में सी-130 जे सुपर हरक्यूलिस विमान का उपयोग किया जा रहा है. नेवी के पी-81 एयरक्रॉफ्ट का इस्तेमाल लद्दाख में ऊंचे जगहों की निगरानी के लिए किया जा रहा है.

सूत्रों ने बताया कि भारतीय सेना रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) द्वारा विकसित अपने स्वदेशी मिसाइल रक्षा प्रणाली आकाश का भी उपयोग कर रही है.

सूत्रों ने कहा कि सेना लद्दाख में तैनाती से काफी संतुष्ट और आश्वस्त है. एक सूत्र ने कहा, “हमें वह सब कुछ मिल गया है, जिसकी जरूरत एक आधुनिक सेना को होती है. चीनी पक्ष की किसी भी आक्रामकता का करारा जवाब दिया जा सकता है.”