श्रीनगर: कठुआ गैंगरेप और हत्या मामले ने पूरे देश को हिलाकर रख दिया था. इस मामले में सत्ता के गलियारों और घाटी में हलचल मचा दी थी. ताजा जानकारी के मुताबिक इस मामले में अब पीड़ित परिवार की ओर से नया बयान निकलकर सामने आया है. पीड़ित परिवार का कहना है कि वह इस मामले में अब सीबीआई जांच नहीं चाहते हैं. इसके अलावा परिवार की कहना है कि वह क्राइम ब्रांच अपना काम ठीक से कर रही है और वह उसकी जांच से संतुष्ट हैं.Also Read - UP Crime News: 15 साल की लड़की के साथ 8 लोगों ने रात भर किया दुष्कर्म, एक महिला भी थी शामिल

Also Read - Dombivli Gang Rape Case: 15 साल की लड़की से सामूहिक रेप में 33 आरोपि‍यों में से अब तक 28 गिरफ्तार

ये भी पढ़ें: कठुआ गैंगरेप: 8 साल की मासूम इंसाफ के लिए पूरे देश से उठी आवाज Also Read - Crime News: राजस्थान से पटना पहुंची महिला को बंधक बनाकर तीन दिनों तक गैंगरेप, 2 आरोपी गिरफ्तार

पीड़ित परिवार ने कहा कि आरोपियों के छूट जाने से परिवार के अन्य सदस्यों की जान को खतरा हो सकता है. पीड़ित परिवार की परेशानी का अंदाजा इसी बत से लगाया जा सकता है कि उन्होंने कहा कि इंसाफ दो या मार डालो. परिवार ने यहां तक कहा कि सांझी राम बेगुनाह नहीं है. उन्होंने कहा कि देश के कई हिस्सों से उन्हें संदेश मिल रहे हैं जिसमें लोग हमें मामले की सीबीआई जांच कराने की सलाह दे रहे हैं.

ये भी पढ़ेंकठुआ गैंगरेप: पीड़िता के अंतिम 7 दिन की दास्तां, मास्टरमाइंड ने पहले की पूजा फिर बेटे-भतीजे से कराया रेप

बता दें कि जनवरी में आठ साल की एक बच्ची का शव कठुआ के रासना जंगल से बरामद किया गया था. बच्ची के साथ गैंगरेप करने के बाद उसकी हत्या कर दी गई थी. आरोपियों ने मुकदमे को चंडीगढ़ शिफ्ट किए जाने की याचिका का भी विरोध किया था. आरोपी पक्ष की ओर से दलील दी गई कि मामले में 221 गवाह हैं और चंडीगढ़ जाकर अदालती कार्यवाही में शामिल होना उनके लिए आसान नहीं होगा.

उल्लेखनीय है कि चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली पीठ ने 27 अप्रैल को मुकदमे की सुनवाई पर 7 मई तक के लिए रोक लगा दी थी. आरोपियों ने दावा किया कि उन्हें इस मामले में जबरन फंसाया गया है.