नई दिल्ली: कार्मिक राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह ने बुधवार को कहा कि जुलाई 2014 से लेकर अब तक 320 भ्रष्ट सरकारी अधिकारियों को समय पूर्व सेवानिवृत्ति दे दी गई है. 5 साल में अब तक हटाए गए 320 भ्रष्ट सरकारी में 163 IAS, IPS, IFS भी शामिल हैं. Also Read - ब्रिटेन में पीएम के मुख्‍य सलाहकार ने किया था लॉकडाउन का उल्लंघन, उप मंत्री ने दिया इस्तीफा

सिंह ने लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा कि 27 फरवरी, 2020 की स्थिति के मुताबिक, जुलाई 2014 से जनवरी 2020 तक समूह ए के 163 अधिकारियों और समूह बी के 157 अधिकारियों के खिलाफ नियमों के तहत मामले दर्ज किये गए हैं. Also Read - जिलाधिकारियों के व्हाट्सऐप ग्रुप में रिटायर्ड IAS अधिकारी ने पोस्ट की न्यूड तस्वीरें, मुख्यमंत्री कार्यालय पहुंचा मामला

समूह ए के अधिकारियों में भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस), भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) और भारतीय वन सेवा (आईएफएस) के अफसर भी शामिल हैं. जिन प्रावधानों के तहत मामले दर्ज किए गए हैं, उनमें भ्रष्ट पाए गए सरकारी बाबुओं की समय-समय पर समीक्षा और समय पूर्व सेवानिवृत्ति की नीति निर्दिष्ट है. Also Read - Covid-19: IPS समेत दिल्ली पुलिस के 140 से ज्यादा जवान कोरोना संक्रमित, प्रशासन की बढ़ी चिंता

कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन मंत्रालय ने लोकसभा में प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा, सरकार को जनहित में, अखंडता या गैरप्रभावी के कारण समय से पहले सरकारी अधिकारियों को सेवानिवृत्त करने का पूर्ण अधिकार है. यह बात केंद्रीय कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन मंत्रालय ने लोकसभा में प्रश्न के लिखित उत्तर में कही है.