Rafale aircraft, IAF, Rafale, France, india, नई दिल्ली: फ्रांस से उड़ान भरने के बाद तीन राफेल युद्धक विमान ( Rafale aircraft) बिना रुके बुधवार शाम भारत पहुंचे. तीनों विमान ऐसे समय पहुंचे हैं, जब भारत और चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में गतिरोध जारी है. इन विमानों के आने के बाद भारतीय वायुसेना (Indian Air Force) को और मजबूती मिलेगी.Also Read - IND vs SA Dream 11 Prediction, 3rd ODI Match: ऐसी हो सकती है प्लेइंग इलेवन, ड्रीम11 में इसे चुनें कप्तान

भारतीय वायु सेना ने बुधवार शाम को ट्वीट कर बताया था, ” 3 राफेल विमानों का तीसरा बैच कुछ समय पहले IAF बेस पर उतरा था. तीन राफेल एयरक्राफ्ट का तीसर बैच एक आईएएफ के बेस पर कुछ समय पहले लैंड कर चुका है. वे 7000 किलो मीटर उड़े और उड़ान के दौरान ईंधन भरा गया. एयरक्राफ्ट आज सुबह फ्रांस के इस्‍ट्रेस एयरबेस से उड़े थे. इंडियन एयरफोर्स टैंकर सपोर्ट देने के लिए यूईए एयरफोर्स की गहराई से प्रशंसा करती है. Also Read - IND vs SA, 2nd ODI: ऐसे मिली Janneman Malan को मदद, सीरीज जीत के बाद कर दिया खुलासा

Also Read - IND vs SA 3rd ODI Live Streaming: मोबाइल पर इस तरह देखें भारत-साउथ अफ्रीका के बीच वनडे मैच

अब देश के पास हो गए 11 राफेल फाइटर 
वायुसेना ने बताया कि नए राफेल विमानों के यहां आने से अब इन विमानों की संख्या बढ़ कर 11 हो गई है. भारतीय वायुसेना ने ट्वीट कर कहा, ”तीन राफेल विमान कुछ देर पहले भारतीय वायुसेना के अड्डे पर उतरे. इन विमानों ने सात हजार किलोमीटर से अधिक की उड़ान भरी. इससे पहले फ्रांस के इस्त्रेस वायुसेना अड्डे से इन विमानों ने उड़ान भरी थी. भारतीय वायुसेना यूएई वायुसेना की ओर से दी गई टैंकर मदद की सराहना करती है.”

पहली खेप में 29 जुलाई, 2020 को आए थे 5 राफेल
पांच राफेल लड़ाकू विमानों की पहली खेप 29 जुलाई, 2020 को भारत पहुंची थी.

दूसरी खेप में 3 नवंबर 2020 को आए थे 3 राफेल
तीन राफेल लड़ाकू विमानों की दूसरी खेप तीन नवम्बर 2020 को भारत पहुंची थी.

संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के टैंकर ने हवा में ही तीन राफेल विमानों में ईंधन भरने में सहायता की.

59 हजार करोड़ रुपए में 36 राफेल की खरीदी
बता दें कि पांच राफेल लड़ाकू विमानों की पहली खेप 29 जुलाई, 2020 को भारत पहुंची थी. लगभग चार साल पहले भारत ने फ्रांस के साथ 59 हजार करोड़ रुपए की लागत वाले 36 विमानों को खरीदने के लिए एक अंतर-सरकारी समझौते पर हस्ताक्षर किए थे. तीन राफेल लड़ाकू विमानों की दूसरी खेप तीन नवंबर को भारत पहुंची थी.

चार साल पहले की थी खरीद की डील
लगभग चार साल पहले भारत ने फ्रांस के साथ 59 हजार करोड़ रुपए की लागत वाले 36 विमानों को खरीदने संबंधी एक अंतर-सरकारी समझौते पर हस्ताक्षर किए थे.