नई दिल्ली. दिल्ली पुलिस में बड़ा फेरबदल हुआ है. इसके साथ ही राज्य के 13 जिले में से 4 में महिला डीसीपी तैनात हो गई हैं. बताया जा रहा है कि दिल्ली में ऐसा पहली बार हुआ है कि 4 जिले में महिला डीसीपी की तैनाती हुई है. पश्चिमी दिल्ली की डीसीपी मोनिका भारद्वाज को बनाया गया है. असलम खान को नॉर्थवेस्ट, मेघना यादव को शहादरा और नुपुर प्रसाद को नॉर्थ जिले की डीपीसी बनी हैं.

असलम खान
असलम खान साल 2009 बैच की अफसर हैं. उन्हें काफी बहादुर अफसर के तौर पर जाना जाता है. राजस्थान से आने वाली ये अफसर भ्रष्टाचार के खिलाफ खड़ी रहती हैं. अंडमान में एसपी रहने के दौरान उन्होंने पोर्ट ब्लेयर म्युनिसिपल काउंसिल में भ्रष्टाचार को उजागर किया था. इसमें 8 सरकारी कर्मचारी घूस लेने के आरोप में गिरफ्तार हुए थे.

मोनिका भारद्वाज
मोनिका भारद्वाज साल 2009 बैच की अफसर हैं. वह हरियाणा के रोहतक की रहने वाली हैं. वह पीसीएआर में काम करने के साथ-साथ वेस्ट और साउथवेस्ट में एडिशनल डीसीपी के तौर पर काम कर चुकी हैं. बताया जाता है कि वह अपने काम को काफी गंभीरता से लेती हैं और ट्विटर पर भी काफी सक्रिय रहती हैं.

नुपुर प्रसाद
नुपुर प्रसाद बिहार की रहने वाली हैं और जेएनयू से पढ़ाई की हैं. वह साल 2007 बैच की अफसर हैं. वह शहादरा की डीसीपी रह चुकी हैं. उनके साथ काम करने वाले बताते हैं कि वह किसी की बेहिचक मदद करती हैं और सीधी बात रखती हैं.

मेघना यादव
मेघना यादव दिल्ली से ही हैं और साल 2007 बैच की अफसर हैं. उन्हें पहली बार डीसीपी का चार्ज मिला है. उन्हें एक एक्शन ओरिएंटेड डीसीपी के तौर पर जाना जाता है. दमन में अपनी तैनाती के दौरान उन्होंने एक बड़े केस का खुलासा किया था. साल 2002 में उनकी एक चिट्ठी काफी रही थी.