नई दिल्लीः राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज (Nizamuddin Markaz) मामले में 400 विदेशी तबलीगी जमाती (Tablighi Jamaat) अब अपने विदेश वापस जा सकेंगे. दिल्ली की साकेत कोर्ट ने विदेशी जमातियों के स्वदेश वापसी के आदेश जारी किए हैं. जिसके बाद महीनों से अपने देश से दूर ये जमाती अब स्वदेश वापस जा सकेंगे. Also Read - Corona Cases in UP: उत्तर प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण से और 312 मरीजों की मौत, 15,747 नये मामले

निजामुद्दीन मरकज मामले में ये सभी 400 विदेशी अपनी सजा पूरी कर चुके हैं और तय जुर्माना भी अदा कर चुके हैं, जिसके बाद साकेत कोर्ट (Saket Court) ने इनके पासपोर्ट वापस देने के आदेश जारी किए हैं. Also Read - Viral Video:'लव यू जिंदगी' सुनते-सुनते कोरोना से हार गई ये युवा मां, हजारों दुआओं...

कोर्ट ने क्राइम ब्रांच और केस के आईओ को आदेश जारी करते हुए कहा है कि सजा पूरी कर चुके सभी विदेशी तब्लीगी जमातियों को उनके वतन भेजने की प्रक्रिया पूरी करे और इन्हें अपने वतन भेजें. कोर्ट के आदेश के बाद इन जमातियों को उनके पासपोर्ट भी वापस कर दिए गए हैं और इनके वतन वापसी के इंतजाम शुरू कर दिए गए हैं. Also Read - Kerala Lockdown Extension News: केरल में फिर बढ़ा लॉकडाउन, अब 23 मई तक तालाबंदी

बता दें ये सभी जमाती अलग-अलग देशों के हैं, जो दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में एक कार्यक्रम के चलते भारत आए थे. इनमें मलेशिया, आस्ट्रेलिया, बांग्लादेश, थाईलैंड और नेपाल के जमाती शामिल हैं.

बता दें कि अप्रैल में दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज में जमातियों के छिपे होने की घटना के बाद ही राजधानी में कोरोना का विस्फोट होना शुरू हुआ था. भारत में शुरुआती दिनों में कोरोना के तेजी से बढ़े मामलों का प्रमुख जिम्मेदार तबलिगी जमातियों को ही थे.