नई दिल्ली: केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को कहा कि भारत में एक दिन में रिकॉर्ड 1,01,468 लोगों ने कोरोना वायरस को मात दी है और महामारी से उबरे लोगों की संख्या अब लगभग 45 लाख हो गई है. इसके साथ ही स्वस्थ होने वालों की दर बढ़ कर 80.86 प्रतिशत हो गई है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के सचिव राजेश भूषण ने बताया कि भारत में रिकवर मामलों की संख्या 44 लाख 90 हजार से ज्यादा हो गई है. ये विश्व की सबसे बड़ी संख्या है. देश का रिकवरी रेट 80 प्रतिशत से अधिक हो चुका है. पिछले 24 घंटों में देश में 1 लाख से ज्यादा रिकवरी दर्ज की गई है.Also Read - Coronavirus cases In India: कोरोना संक्रमण के मामले हुए कम, 1 दिन में 30 हजार से अधिक लोग संक्रमित, 422 लोगों की मौत

उन्होंने कहा कि अब तक हम 6.5 करोड़ टेस्ट कर चुके हैं और पिछले शनिवार हमने एक दिन में 12 लाख टेस्ट किए थे. मंत्रालय ने कहा, “हमने 7 जुलाई तक 1 करोड़ टेस्ट किए थे. 1 करोड़ से 3 करोड़ टेस्ट तक पहुंचने में देश को 27 दिन लगे. इसी बीच हम 1100 लैब से 1300 लैब पर पहुंचे.” उन्होंने बताया कि प्रति 10 लाख आबादी पर मामले देखें तो हमारे यहां 4000 के करीब कोविड मामले हैं, अभी भी कई देशों में यह संख्या 20000 के पास है. प्रति 10 लाख आबादी पर हमारे यहां 64 मृत्यु होती हैं, अन्य देशों में यह 500-600 से भी अधिक है. Also Read - अप्रैल-जून के दौरान भारत में जॉब भर्तियों में 11 प्रतिशत की हुई बढ़ोतरीः रिपोर्ट

मंत्रालय के अनुसार देश में कोविड-19 महामारी को मात देकर ठीक हुए लोगों की संख्या अब 44,97,867 हो गई है और इनमें से 79 प्रतिशत लोग नौ राज्यों तथा एक केंद्रशासित प्रदेश-महाराष्ट्र, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, उत्तर प्रदेश, तमिलनाडु, ओडिशा, दिल्ली, केरल, पश्चिम बंगाल और पंजाब से हैं. महाराष्ट्र महामारी से लोगों के ठीक होने के मामले में लगातार आगे बना हुआ है और इस राज्य में एक दिन में 32 हजार से अधिक लोग (31.5 प्रतिशत) ठीक हुए हैं. वहीं, आंध्र प्रदेश में एक दिन में 10 हजार से अधिक लोग ठीक हुए हैं. Also Read - Covid 19 R Value: कोरोना की तीसरी लहर की तरफ बढ़ रहा देश? आर वैल्यू पहुंचा 1 के पार

मंत्रालय ने कहा, ‘‘पिछले चार दिन से लगातार बड़ी संख्या में लोग ठीक हो रहे हैं. अधिकतम लोगों के ठीक होने की भारत की महत्वपूर्ण उपलब्धि ने इसे इस मामले में विश्व का शीर्ष देश बना दिया है.’’ इसने कहा कि बड़ी संख्या में लोगों का महामारी को मात देना इस बात का साक्ष्य है कि केंद्र के नेतृत्व में अग्र-सक्रिय कदमों और ‘जांच, संपर्कों का पता लगाने तथा उपचार’ की क्रमिक रणनीति सफल हो रही है. मंत्रालय ने कहा कि प्रभावी चिकित्सकीय प्रबंधन तथा केंद्र सरकार द्वारा जारी उपचार प्रोटोकॉल को नए चिकित्सकीय और वैज्ञानिक साक्ष्यों के अनुरूप समय-समय पर अद्यतन किया जाता रहा है.

इसने कहा कि केंद्र सरकार ने ‘रेमडेसिविर’, ‘प्लाज्मा’ और ‘टोसिलिजुमैब’ जैसी ‘अनुसंधानात्मक पद्धतियों’ के तर्कसंगत इस्तेमाल की भी अनुमति दी है. उच्च प्रवाह ऑक्सीजन, ‘नॉन इन्वेसिव वेंटीलेशन’ और स्टेरॉइड तथा रक्त को पतला करने वाली दवाओं के इस्तेमाल जैसे कदमों का परिणाम कोविड-19 के मरीजों के ठीक होने की दर के अधिक होने के रूप में निकला है. मंत्रालय ने कहा कि हल्के मामलों में गृह पृथक-वास और इसकी निगरानी, एंबुलेंस सेवाओं में सुधार जैसे कदमों ने भी प्रभावी कोविड प्रबंधन में मदद की है.

स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार भारत में पिछले 24 घंटे में कोविड-19 के 75,083 नए मामले सामने आए और इसके साथ ही देश में संक्रमण के अब तक सामने आए मामलों की कुल संख्या 55,62,663 हो गई. इस अवधि में 1,053 मरीजों की मौत के साथ ही महामारी से मरने वालों की संख्या 88,935 हो गई है.

(इनपुट भाषा)