नई दिल्ली: केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय और दिल्ली सरकार के संयुक्त वायु स्वच्छता अभियान के दौरान पर्यावरण उल्लंघन के 4,347 मामले और जुर्माना लगाए जाने के 1,892 मामले सामने आए हैं. जुर्माने के तौर पर बीते सप्ताह 54 करोड़ रुपये संग्रहित हुए हैं. केंद्रीय पर्यावरण मंत्री हर्षवर्धन व दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने संयुक्त रूप से 10 फरवरी को दिल्ली सहित राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में प्रदूषण के स्थायी समाधान के लिए ‘क्लीन एयर फॉर दिल्ली’ अभियान की शुरुआत की थी. इसके तहत एक पखवाड़े से ज्यादा समय से जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है. Also Read - Delhi: बहन के पीछे पड़े मनचलों की हरकत का विरोध करने पर भाई को चाकुओं से गोदा, लड़की ने बयां की दास्‍तां

Also Read - Delhi: फैक्‍ट्री में लगी भयंकर आग को दमकल की 28 गाड़ियां बुझाने में जुटीं, चपेट में आए एक व्‍यक्ति की मौत

पर्यावरण मंत्रालय ने अभियान के दौरान दिल्ली की वायु गुणवत्ता में सुधार का दावा किया है. मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के आंकड़ों से पता चलता है कि हवा की गुणवत्ता का स्तर जो शुरुआत में ‘बहुत खराब’ था, वह 12 से 15 फरवरी के बीच ‘मध्यम’ व तीन दिनों 16,17 व 18 फरवरी को ‘खराब’ स्तर पर रहा. Also Read - Delhi Police के असिस्‍टेंट सब-इंस्‍पेक्‍टर ने PCR वाहन में खुद के सीने में गोली मारी, हुई मौत

यह भी पढ़ें: दिल्ली होगी प्रदूषण मुक्त? ऑड ईवन के बाद एक और नई मुहिम पर काम शुरू

मंत्रालय ने यह भी कहा कि प्रदूषण के स्तर में भी विशेष रूप से 2017 के इसी अवधि की तुलना में उल्लेखनीय कमी देखी गई.

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारियों, दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति, नागरिक संस्थाएं, दिल्ली पुलिस व एनजीओ के साथ कम से कम 70 टीमों का गठन अभियान के लिए किया गया था. इससे पहले पर्यावरण मंत्रालय ने कहा था कि इस अभियान के परिणाम से मंत्रालय को वायु प्रदूषण के समाधान के तौर पर बड़े स्तर पर नीति बनाने व साल के दौरान लागू करने में मदद मिलेगी. बता दें ‘क्लीन एयर फॉर दिल्ली’ अभियान 23 फरवरी तक जारी रहेगा.