नई दिल्लीः दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को बताया कि राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना वायरस संक्रमितों की संख्या बढ़कर 445 हो गई है लेकिन हालात नियंत्रण में और अभी तक समदुाय स्तर पर संक्रमण नहीं फैला है. उन्होंने बताया कि केवल 40 मामले ही स्थानीय संक्रमण के हैं जबकि अधिकतर मरीज वे हैं जिन्होंने विदेश यात्रा की है या हाल में निजामुद्दीन के मरकज़ से निकाला गया है. Also Read - Lockdown Latest News: देश के इस राज्य में लगाया गया एक हफ्ते का लॉकडाउन, राजधानी भी बना कन्टेन्मेंट जोन

आंकड़ों को साझा करते हुए केजरीवाल ने बताया कि राष्ट्रीय राजधानी में गत 24 घंटे में 59 नये मामले आए हैं. दिल्ली में जिन मरीजों को इलाज चल रहा है उनके में 11 गहन चिकित्सा कक्ष में भर्ती हैं जबकि पांच वेंटिलेटर पर है. उन्होंने कहा, ‘‘ हम कह सकते हैं कि यह स्थानीय संक्रमण है न कि समुदाय स्तर का संक्रमण.’’ केजरीवाल ने कहा, ‘‘ समुदाय स्तर पर संक्रमण होने पर व्यक्ति को पता नहीं लगता कि उसे संक्रमण किससे हुआ लेकिन दिल्ली में ऐसा कोई मामला नहीं आया है और स्थिति नियंत्रण में है.’’ Also Read - IPL 2020: CSK फैंस के लिए खुशखबरी; कोविड टेस्ट पास कर स्क्वाड में लौटे रुतुराज गायकवाड़

केजरीवाल ने बताया, ‘‘ निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात के मरकज़ से 2,300 लोगों को निकाला गया है जिनमें 500 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है जबकि 1800 को पृथकवास में रखा गया है. हम इन सभी लोगों का जांच करा रहे हैं इसका मतलब है कि दिल्ली में कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़ेगी.’’उन्होंने कहा कि अबतक दिल्ली में छह लोगों की कोरोना वायरस से मौत हुई है. Also Read - Covid-19 Pandemic: पराली जलाने का कोरोना संक्रमण में क्या होगा असर, विशेषज्ञों ने किया हैरान करने वाला खुलासा

केजरीवाल ने बताया, ‘‘ दिल्ली में कोरोना वायरस से जिन छह लोगों की मौत हुई है उनमें पांच की उम्र 60 से अधिक थी जबकि एक मृतक की उम्र 36 साल थी. मरने वालों में तीन का संबंध मरकज से है.’’ उन्होंने बताया कि छह मृतकों में पांच गंभीर बीमारी से ग्रस्त थे. इनमें एक व्यक्ति को लीवर की बीमारी थी, एक मधुमेह का मरीज था, दो को सांस की बीमारी थी और एक हृदय रोग से पीड़ित था.

मुख्यमंत्री ने 55 साल से अधिक उम्र के लोगों को घरों में ही रहने और सतर्क रहने का अनुरोध किया. उन्होंने कहा, ‘‘सभी वरिष्ठ नागरिक हमारे लिए अमूल्य हैं और मैं नहीं चाहता कि उन्हें कोई परेशानी हो. इसलिए जिन्हें गंभीर बीमारी है उनसे अनुरोध करता हूं कि वे सतर्क रहे क्योंकि कोरोना वायरस उनके लिए प्राणघातक है.’’

केजरीवाल ने कहा कि वह व्यक्तिगत रूप से हालात की निगरानी कर रहे हैं और कोरोना वायरस संक्रमित प्रत्येक व्यक्ति का रिकॉर्ड रखा जा रहा है. उन्होंने कहा, ‘‘हमारी हमारी पहली प्राथमिकता यह सुनिश्चित करना है कि कोई समुदाय स्तर पर संक्रमण नहीं हो और दूसरी प्राथमिकता है कि अगर कोई संक्रमित हो तो उसको इलाज मुहैया कराया जाए और दिल्ली में किसी की मौत नहीं हो.’’

केजरीवाल ने कहा कि निजामुद्दीन की घटना और पहले से मौजूद विदेशी मरीजों की वजह से दिल्ली में अचानक मरीजों की संख्या में वृद्धि हुई है. उन्होंने कहा, ‘‘ अभी हमें तत्काल व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (पीपीई) की जरूरत है. हम कल ही इस बारे में केंद्र सरकार को लिख चुके हैं.’’

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘ मैं नहीं चाहता कि डॉक्टर और नर्स बिना सुरक्षा उपकरण का इलाज करें लेकिन केंद्र द्वारा अभी भी हमें यह उपलब्ध कराया जाना है. केजरीवाल ने बताया कि शुक्रवार को दिल्ली सरकार ने 6,63,928 लोगों को दिन का खाना और 6,78,544 को रात का खाना मुहैया कराया और दिल्ली सरकार ने 10 लाख लोगों को खिलाने की व्यवस्था की है.