बेंगलुरूः कर्नाटक में कोरोनो वायरस संक्रमण के 461 संदिग्ध लोगों की निगरानी उनके घर पर ही की जा रही है. एक अधिकारी ने गुरुवार को कहा कि स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग ने 461 लोगों की खास निगरानी का प्रबंध किया है. राज्य में हालांकि अभी तक कोरोनो वायरस का कोई पॉजिटिव मामला सामने नहीं आया है. Also Read - COVID-19: देश की सड़कें फिर नजर आईं सूनी, कोरोना संक्रमण के 72 फीसदी से ज्‍यादा केस सिर्फ इन 5 राज्यों से हैं

राज्य स्वास्थ्य विभाग के संयुक्त निदेशक प्रकाश कुमार ने कहा, “हम लक्षणों के आधार पर 461 लोगों की निगरानी उनके घरों पर करा रहे हैं. यह राहत की बात है कि अभी तक कोई भी पॉजिटिव मामला सामने नहीं आया है.” राजीव गांधी इंस्टीट्यूट ऑफ चेस्ट डिजीजेज ने पांच लोगों को आइसोलेशन (एकांत वास) में रखा है. Also Read - Covid19: इन 10 राज्यों में 83.29 प्रतिशत कोरोना वायरस संक्रमण के नए मामले

कोरोनोवायरस परीक्षण के लिए राज्य से भेजे गए 273 सैंपल निगेटिव पाए गए. कर्नाटक के केम्पेगौड़ा अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे और मंगलुरू अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे पर 68,717 यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग की गई. करवार और मंगलुरू के बंदरगाह पर 5,103 यात्रियों को जांचा गया. Also Read - Night curfew in Karnataka: बेंगलुरू और मैसूर सहित कर्नाटक के इन 7 जिलों में लगाया गया नाइट कर्फ्यू, केवल इन्हें मिलेगी छूट

गुरुवार को 16 लोगों ने 28 दिन का समय पूरा किया, जबकि अभी 225 लोगों को अभी भी निगरानी में रखा गया है. कर्नाटक में सभी अंतर्राष्ट्रीय यात्रियों की स्क्रीनिंग की जा रही है. राज्य के स्वास्थ्य विभाग की टीमों ने हाल के घटनाक्रमों का जायजा लेने के लिए निजी अस्पतालों का दौरा किया.