श्रीनगर: जम्‍मू- कश्‍मीर के अनंतनाग इलाके में हुए आतंकी हमले में सीआरपीएफ के पांच जवान शहीद हो गए हैं. वहीं, आतंकी वारदात में घायल हुए चार अन्‍य को इलाज के लिए अब 92 बेस हॉस्पिटल में पहुंचाया गया है. जहां उनकी हालत नाजुक बनी हुई है. हताहतों में अनंतनाग पुलिस स्‍टेशन के एसएचओ आसद खान और एक स्‍थानीय महिला है. सीआरपीएफ की 116वीं बटालियन के जवान जम्‍मू और कश्‍मीर पुलिस के साथ अनंतनाग के केपी चौक पर तैनात थे. बुधवार शाम करीब 4:55 बजे बाइक पर आए दो आतंकियों ने पहले ग्रेनेड से इन जवानों पर हमला किया, फिर एके-47 राइफल से ताबड़तोड़ गोलीबारी करने लगे.

घटना में तीन सुरक्षाकर्मी और एक नागरिक घायल हो गए. शहीद सुरक्षाकर्मियों में दो सहायक उपनिरीक्षक (एएसआई) रैंक के अधिकारी शामिल हैं. पुलिस सूत्रों ने कहा, “मुठभेड़ में एक महिला, एक स्टेशन हाउस ऑफिसर (एसएचओ) और दो सीआरपीएफ जवान घायल हुए हैं. बता दें जम्‍मू-कश्‍मीर में सुरक्षाबलों के चलाए जा रहे ऑपरेशन ऑल आउट के तहत बड़ी संख्‍या में आतंकियों का सफाया किया जा रहा है. आर्मी की कार्रवाई से बौखलाए आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर हमला किया है.

जम्‍मू-कश्‍मीर दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग जिले में बुधवार को हुए आतंकवादी हमले में सीआरपीएफ के पांच जवान शहीद हो गए जबकि चार अन्य सुरक्षाकर्मी घायल हो गए. अधिकारियों ने बताया कि मुठभेड़ में एक आतंकवादी को मार गिराया गया. उसके पास से एक एके राइफल भी बरामद हुई है.

सीआरपीएफ सूत्रों के अनुसार, हमले में शामिल कम से कम एक हमलावर ‘फिदायीन’ अभियान पर था, क्योंकि वह घटनास्थल से नहीं भागा, जबकि अन्य दो आतंकवादी घटनास्थल से फरार हो गए. पुलिस सूत्रों ने बताया कि घायल एसएचओ को विशेष इलाज के लिए श्रीनगर के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जबकि अन्य घायलों को स्थानीय अस्पताल में भर्ती कराया गया है.”

अधिकारियों ने बताया कि कम से कम दो आतंकवादियों ने अनंतनाग के व्यस्त केपी रोड पर सीआरपीएफ के गश्ती दल पर ऑटोमैटिक राइफलों से गोलीबारी की और हथगोले फेंके. इस हमले में सीआरपीएफ के पांच जवान शहीद हो गए जबकि चार अन्य घायल हो गए. घायलों को 92 बेस अस्पताल ले जाया गया है.

पुलिस ने कहा कि के.पी. रोड शहर के यातायात को स्थगित कर दिया गया है, क्योंकि क्षेत्र में तलाशी अभियान जारी है. अनंतनाग थाने के एसएचओ अरशद अहमद भी हमले में घायल हुए हैं. उन्हें इलाज के लिए श्रीनगर ले जाया गया है, जिस इलाके में हमला हुआ है वहां सीआरपीएफ की 116वीं बटालियन की ब्रावो कंपनी और राज्य पुलिस की संयुक्त टीम को पिकेट ड्यूटी पर तैनात किया गया था.