जयपुर/भोपाल/अहमदाबाद: राजस्थान, मध्य प्रदेश और गुजरात और महाराष्ट्र के विभिन्न हिस्सों में बेमौसम बारिश, आंधी और बिजली गिरने की घटना में करीब 50 लोगों की मौत हो गई. अधिकारियों ने बुधवार को यह जानकारी दी. बेमौसम बारिश और आंधी के कारण गुजरात और राजस्थान में संपत्ति और फसलों को काफी नुकसान हुआ है. राजस्थान सबसे ज्यादा प्रभावित हुआ, जहां वर्षा जनित घटनाओं में 21 लोगों की मौत हो गयी. मध्य प्रदेश में वर्षा जनित घटनाओं में 15 लोगों के मरने की खबर है. गुजरात में 10 और महाराष्ट्र में तीन लोगों की मौत हो गई. महाराष्ट्र के नासिक जिले में बारिश के दौरान वज्रपात से 71 वर्षीय महिला, 32 वर्षीय पुरुष और मंदिर के एक पुजारी की मौत हो गई.

पीएम को एमपी के सीएम ने रिट्वीट करके साधा निशाना
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात में बारिश जनित घटनाओं में लोगों की मौत को लेकर सुबह ट्विटर पर दुख जताया और राहत की घोषणा की. इसके तुरंत बाद मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रधानमंत्री पर निशाना साधते हुए कहा कि उन्हें सिर्फ अपने गृह राज्य गुजरात की चिंता है.

पीएम ने दुख जताया, राहत राशि से 2-2 लाख रुपए की सहायता 
प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) की ओर से बाद में किए गए ट्वीट में कहा गया, नरेंद्र मोदी ने मध्य प्रदेश, राजस्थान, मणिपुर और देश के विभिन्न हिस्सों में बेमौसम बरसात और आंधी-तूफान के चलते लोगों की मौत पर दुख जताया है. पीएमओ ने अगले ट्वीट में कहा, मध्य प्रदेश, राजस्थान, मणिपुर और देश के विभिन्न हिस्सों में बेमौसम बरसात और आंधी के कारण अपनी जान गंवाने वाले लोगों के परिजन के लिए प्रधानमंत्री के राष्ट्रीय राहत कोष से 2-2 लाख रुपए की अनुग्रह राशि और घायलों के लिये 50 हजार रुपए की राशि देने को मंजूरी दी गई है.

सरकार करीब से रख रही नजर
गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि सरकार बारिश से प्रभावित इलाकों में स्थिति पर करीब से नजर रख रही है और बारिश एवं आंधी से प्रभावित राज्यों को हर संभव मदद उपलब्ध कराने के लिए तत्पर है.

राजस्‍थान में 21 लोगों की मौत
जयपुर में राजस्थान के राहत सचिव ए टी पेडनेकर ने बताया कि बेमौसम की बारिश में 21 लोगों की मौत हो गई. उन्होंने बताया,झालावाड़, उदयपुर और जयपुर में चार-चार लोगों की मौत हुई और जालौर तथा बूंदी में दो-दो लोगों और बारण, राजसमंद, भीलवाड़ा, अलवर और हनुमानगढ़ में एक -एक व्यक्ति की जान गई. पीड़ितों के परिजन के लिये 4-4 लाख रुपए के मुआवजे की घोषणा की गई है. वर्षा जनित घटनाओं में कई पशु भी मारे गए.

मध्‍य प्रदेश में 15 लोगों की मौत
भोपाल में अधिकारियों ने बताया कि मध्य प्रदेश में आंधी-तूफान के साथ बारिश होने और तड़ित गिरने की घटना में 15 लोगों की मौत हो गई और कुछ अन्य घायल हो गए. बारिश के कारण इंदौर, धार और शाजापुर में 3-3 लोगों की मौत हो गई, रतलाम में 2 लोग और अलीराजपुर, राजगढ़, सिहोर, छिंदवाड़ा जिलों में 1-1 लोग मर गए.

कमलनाथ ने पीएम मोदी पर लगाया आरोप
मुख्यमंत्री कमलनाथ ने लोगों की मौत पर दुख जताते हुए मोदी पर आरोप लगाया कि उन्हें सिर्फ अपने गृह राज्य गुजरात की चिंता है. कमलनाथ ने ट्वीट किया, ”मोदी जी, आप देश के प्रधानमंत्री हैं, न कि गुजरात के. मध्य प्रदेश में भी बेमौसम बारिश, तूफान और तड़ित गिरने से 10 से अधिक लोगों की मौत हुई है. लेकिन आपकी संवेदनाएं सिर्फ गुजरात तक ही क्यों सीमित है? भले यहां आपकी पार्टी की सरकार नहीं है, लेकिन लोग यहां भी बसते हैं.”

बीजेपी का पलटवार
भाजपा ने इस पर पलटवार करते हुए कमलनाथ पर बारिश एवं आंधी से लोगों की मौत को लेकर राजनीति करने का आरोप लगाया. भाजपा प्रवक्ता अनिल बलूनी ने दिल्ली में कहा कि कमलनाथ प्रक्रिया से अच्छी तरह वाकिफ हैं कि राज्य सरकार को राहत पाने के लिए पहले ऐसी प्राकृतिक आपदा में हुई क्षति के बारे में केंद्र को सूचित करना होता है, लेकिन ऐसा करने के बजाय वह ट्वीट कर रहे हैं और इसका राजनीतिकरण कर रहे हैं. बलूनी ने आरोप लगाया, केंद्र को सूचित करने के बजाय उन्होंने इस त्रासदी पर राजनीति करना चुना.

सौराष्ट्र क्षेत्र में बारिश एवं आंधी-तूफान में 10 लोगों की मौत
अहमदाबाद में गुजरात सरकार के राहत अभियान के निदेशक जी बी मंगलपारा ने बताया कि उत्तर गुजरात के जिलों के कई इलाकों और सौराष्ट्र क्षेत्र में बारिश एवं आंधी-तूफान में 10 लोगों की मौत हो गई है. गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने राज्य में वर्षा जनित घटनाओं में जान गंवाने वालों के परिजन को दो-दो लाख रुपए की सहायता राशि देने की घोषणा की. रूपाणी ने दाहोद में मीडियाकर्मियों से कहा, प्रधानमंत्री दो लाख रुपए की अनुग्रह राशि देने की घोषणा कर चुके हैं, राज्य सरकार भी मृतकों के परिवारों को दो लाख रुपए की मदद देगी. उन्होंने कहा, उत्तर गुजरात में अधिकतर लोगों की मौत आकाशीय बिजली की चपेट में आने और पेड़ों के गिरने के कारण हुई.