नई दिल्ली: दिल्ली सरकार के सुपर स्पेशियेलिटी जी बी पंत अस्पताल के आधे बिस्तर शहर के उन निवासियों के लिए आरक्षित होंगे, जिन्हें विशेषज्ञ इलाज की जरूरत है. दिल्ली के स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी आदेश के अनुसार, यह सुविधा मध्य दिल्ली के जी बी पंत अस्पताल में उपलब्ध होगी. जीबी पंत अस्‍पताल में  714 बेड हैं, जिसमें से 357 बेड दिल्‍लीवालों के आरक्षित होंगे.Also Read - दिल्ली सरकार ने 10 साल से ज्यादा पुरानी डीजल गाड़ियों का रजिस्ट्रेशन किया रद्द, यहां जानें अब आपके पास क्या है विकल्प?

आदेश के अनुसार, यह फैसला किया गया है कि कुल बिस्तरों का 50 प्रतिशत उन मरीजों के लिए आरक्षित होगा जो इन शर्तों को पूरा करें कि वे दिल्ली का निवासी हो, उन्हें दिल्ली के किसी अन्य सरकारी अस्पताल द्वारा भेजा गया हो और विशेषज्ञ इलाज या पहले से तय सर्जरी के लिए भर्ती किया जाना हो. यह भी पढ़ें: केजरीवाल सरकार का बड़ा फैसला, खत्म किया मैनेजमेंट कोटा Also Read - Delhi में 6 महीने में आज Covid के नए मामले सबसे ज्यादा आए, ओमीक्रोन का संकट भी है मौजूद

आदेश में कहा गया कि इस सुविधा के जरिए दिल्ली के रहने वाले मरीजों के लिए समय पर और सर्वश्रेष्ठ उपलब्ध इलाज देने का प्रयास किया जाएगा. गोविंद बल्लभ पंत अस्पताल की आधारशिला अक्टूबर 1961 में रखी गई थी. Also Read - Explained: दिल्ली में अपने Old Vehicle को Scrap होने से कैसे बचाएं, इस वीडियो में जानें

आपको बता दें कि दिल्ली सरकार जल्द ही ऐसी नीति आने वाली है, जिसमें सड़क पर कोई एक्सीडेंट हुआ, तो पीड़ित के किसी भी प्राइवेट अस्पताल में भर्ती होने पर सारा खर्चा दिल्ली सरकार उठाएगी. दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार ने एक्सीडेंट विक्टिम पॉलिसी को मंजूरी दे दी है और इसको एलजी के पास मंजूरी के लिए भेजा जाएगा.