जम्मू: दुनिया भर के मुस्लिमों ने कोरोना वायरस के मद्देनजर लागू लॉकडाउन के बीच शुक्रवार को रमजान के पाक माह की शुरुआत की जहां पारिवारिक जुटान और सामूहिक नमाजों पर अभूतपूर्व प्रतिबंध लागू हैं जबकि कुछ देशों की ओर से इन प्रतिबंधों को मानने से इनकार करने ने संक्रमण बढ़ने की आशंका उत्पन्न कर दी है. हालांकि इस बीच लोगों को रमजान (Ramadan) के दौरान किसी तरह की दिक्कतें न आएं इसके लिए श्रीनगर जिला प्रशासन पूरी तैयारी में लगा है. Also Read - Covid-19: SC ने जेलों में भीड़ कम करने के लिए कैदियों को रिहा करने का आदेश दिया

श्रीनगर के जिला मजिस्ट्रेट शाहिद चौधरी ने ट्वीट कर जानकारी दी कि लोगों की दिक्कतों को कम करने के लिए जिला प्रशासन 50 हजार जरूरी सामान के पैकेट्स भेजने के लिए तैयार है. उन्होंने कहा कि श्रीनगर जिले में लॉकडाउन के चलते लोगों की समस्याओं को देखते हुए भोजन/आवश्यक सामान की किटें भेजी जा रही हैं. शाहिद चौधरी ने पैकेट्स की तस्वीरें शेयर करते हुए ट्वीट किया, “यह रमजान दुनिया में कहीं भी एक जैसा नहीं है, लेकिन हम श्रीनगर में इसे कम दिक्कतों वाला रमजान बनाने की कोशिश कर रहे हैं. लोगों को भेजे जाने के लिए 50,000 रमजान भोजन / आवश्यक सामान की किटें तैयार हैं.” Also Read - कोविड फैसिलिटी में भर्ती होने के लिए पॉजिटिव रिपोर्ट अनिवार्य नहीं, स्वास्थ्य मंत्रालय ने राष्ट्रीय नीति में किया बड़ा बदलाव

इससे पहले जम्मू-कश्मीर में कई स्थानों पर लॉकडाउन का उल्लंघन की खबरों के बाद शुक्रवार को कश्मीर में कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने की कवायद तेज कर दी गई. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. जम्मू-कश्मीर में अब तक कोरोना वायरस के 434 मामले सामने आए हैं, जब​​कि पांच मरीजों की मौत हो गई है और 92 लोग ठीक हुए हैं. अधिकारियों ने बताया कि कश्मीर के कुछ इलाकों में लोगों द्वारा प्रतिबंधों का उल्लंघन करने की खबरें सामने आई हैं. अधिकारियों ने बताया कि 64,000 से अधिक लोगों को सरकार के पृथक-वासों या घर में पृथक रखा गया है. उन पर चिकित्सीय निगरानी खी जा रही है.