नई दिल्ली. सरकार की महत्वाकांक्षी उड़ान योजना के तहत ऐसे 56 हवाईअड्डों और 31 हेलीपैडों को जोड़ा जाएगा जो अबतक बेहद कम इस्तेमाल में थे. केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने गुरुवार को संसद में आम बजट पेश करते हुए कहा कि सरकार ने एक नयी मुहिम के तहत प्रति वर्ष 1 अरब उड़ानें संचालित करने के लिए हवाईअड्डों की क्षमता को 5 गुना विस्तृत करने का भी प्रस्ताव रखा है. Also Read - फिरोजशाह कोटला स्‍टेडियम के स्‍टैंड से नाम हटवाना चाहते हैं Bishan Singh Bedi, डीडीसीए सदस्‍यता भी छोड़ी

उन्होंने कहा, ‘पिछले 3 साल में घरेलू हवाई यात्रियों की संख्या प्रति वर्ष 18 प्रतिशत की दर से बढ़ी है. हमारी विमानन कंपनियों ने इस दौरान 900 से अधिक विमान खरीदे हैं.’ उन्होंने कहा कि उड़ान योजना के तहत ऐसे 56 हवाईअड्डों और 31 हेलीपैडों को जोड़ा जाएगा जो अबतक बेहद कम इस्तेमाल में हैं. इस तरह के 16 हवाईअड्डों पर परिचालन पहले ही शुरू की जा चुकी है. Also Read - Arun Jaitley Death Anniversary: अरुण जेटली की पुण्यतिथि पर भावुक हुए PM मोदी, कहा- 'मुझे अपने दोस्त की बहुत याद आती है'

जेटली ने कहा, ‘सरकार की इस पहल से हवाई चप्पल पहनने वाले नागरिक भी हवाई जहाज में यात्रा कर रहे हैं.’ हवाईअड्डों की क्षमता बढ़ाने के संबंध में जेटली ने कहा कि विस्तारीकरण योजना के वित्त पोषण के लिए भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) के बैलेंस शीट का उपयोग किया जाएगा. Also Read - DDCA Election: डीडीसीए में जल्‍द होगी अरुण जेटली के बेटे रोहन की एंट्री !

उन्होंने कहा कि ढांचागत संरचना अर्थव्यवस्था की वृद्धि के वाहक हैं. हमारे देश को सकल घरेलू उत्पाद बढ़ाने के लिए ढांचागत क्षेत्र में 50 लाख करोड़ रुपये के करीब भारी-भरकम निवेश की जरूरत है ताकि देश को सड़कों, हवाईअड्डों, रेल, बंदरगाहों, नदी जलमार्गों आदि के जरिये जोड़ा जा सके और हमारे लोगों को अच्छी गुणवत्ता की सेवाएं उपलब्ध हो सके.