नई दिल्ली। सरकारी नौकरी की चाहत में लोगों से ठगी के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. लोगों को ठगने के लिए कई गिरोह सक्रिय हैं जिनका आए दिन भांडाफोड़ हो रहा है. राष्ट्रीय राजधानी में दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा द्वारा पिछले दो महीनों में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने वाले कम से कम छह गिरोहों का भांडाफोड़ हुआ है. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी का कहना है कि यह देश में नौकरी को लेकर मौजूदा परिदृश्य और सरकारी नौकरियों के प्रति लोगों के रुझान को दिखाता है.Also Read - Delhi की रोहिणी कोर्ट में शूटआउट का वीडियो सामने आया, तीन क्रिमिनल की मौत, गैंगस्‍टर गोगी ने भी दम तोड़ा

अंजाम देने वाले बेरोजगार Also Read - साड़ी पहनकर रेस्तरां पहुंची महिला को घुसने से रोका, महिला आयोग ने कहा- मामले में जांच करे पुलिस

अपराध शाखा के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इन घोटालों को अंजाम देने वाले लोग भी बेरोजगार हैं और इसमें फंसने वाले लोगों के पास भी कोई रोजगार नहीं है. उन्होंने बताया कि लोग सरकारी नौकरी चाहते हैं जिसमें नौकरी की सुरक्षा और पेंशन हो. Also Read - ISI Terror Module: ओसामा के चाचा ने प्रयागराज में सरेंडर किया, देश में पूरे आतंकी नेटवर्क को को-ऑर्डिनेट कर रहा था

6 गिरोह का भांडाफोड़

अधिकारी ने बताया कि उनकी शाखा ने पिछले दो महीनों में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने वाले कम से कम छह गिरोहों का भांडाफोड़ किया है. उन्होंने कहा कि इस तरह के घोटालों के पीछे सबसे बड़ा कारण बेरोजगारी की दर है. इसे नौकरी के वर्तमान परिदृश्य का प्रतिबिंब भी कहा जा सकता है. नौकरी की तलाश करने वाले बहुत लोग हैं और जब भी कोई अवसर नजर आता है तो वह बिना सोचे-समझे उसे पाने की कोशिश करने लगते हैं.

रेलवे और सेना में भर्ती का लालच

जिला पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि इन गिरोहों के माध्यम से अभ्यर्थियों को रेलवे और सेना में नौकरी दिलाने का लालच दिया जाता है क्योंकि ये दोनों बड़ी तादाद में लोगों की नियुक्ति करते हैं और अखबार में विज्ञापन भी जारी करते हैं. 2013 में नरेंद्र मोदी ने वादा किया था कि सत्ता में आने पर युवाओं को एक करोड़ नौकरियां देंगे