नई दिल्ली: कुल 60.9 फीसदी भारतीयों का मानना है कि उन्हें राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के चलते आवश्यक वस्तुएं ऊंची कीमतों पर मिल रही हैं. इसका खुलासा सोमवार को एक सर्वेक्षण में हुआ है. देश भर में 26 मार्च और 27 मार्च को आईएएनएस सी-वोटर गैलप इंटरनेशनल एसोसिएशन कोरोना ट्रैकर द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण में यह बात सामने आई है. Also Read - COVID 19 Viral News: लॉकडाउन में घर से बाहर निकला रसगुल्ला खरीदने, पुलिस ने कुछ यूं लगाई क्लास

सर्वे में शामिल लोगों से सवाल पूछा गया कि क्या आपको आवश्यक वस्तुएं उच्च कीमतों पर मिल रही हैं? इस पर कुल 60.9 फीसदी ने सहमति जताते हुए कहा कि हां उन्हें जरूरी चीजें अधिक कीमतों पर खरीदनी पड़ रही है. वहीं इस प्रश्न पर 28.7 फीसदी लोगों ने असहमति जताई और बाकी ने जवाब नहीं दिया. Also Read - मेरठ में जुड़वा भाईयों की कोरोना से मौत, साथ हुए पैदा और साथ ही हुई मौत

दरअसल लॉकडाउन के समय जरूरी चीजों की कमी होने संबंधी अफवाहों ने ही कीमतों में वृद्धि को बढ़ावा दिया है. देखा जा रहा है कि इसी कारण लोग जमाखोरी कर रहे हैं, जिससे देश में आवश्यक वस्तुओं की कमी होने के साथ ही कालाबाजारी को भी बढ़ावा मिला है. इसके अलावा वस्तुओं की आपूर्ति पर भी असर पड़ा है. Also Read - Badrinath Temple: ब्रह्म मुहुर्त में खुला बदरीनाथ धाम का कपाट, दर्शन पर फिलहाल रोक

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से 25 मार्च को देशभर में तीन हफ्तों के लिए लॉकडाउन लागू करने के कुछ घंटों बाद ही किराने की वस्तुओं और दवाओं की जमकर खरीदारी की गई. आवश्यक वस्तुओं की बड़े पैमाने पर की गई जमाखोरी की वजह से ही लोगों को अधिकतर जरूरी वस्तुएं महंगी कीमतों पर खरीदनी पड़ रही हैं.

 

(इनपुट-एजेंसी)