अलीगढ़: उत्‍तर प्रदेश में नकल रोकने की काफी कोशिशें की जा रही हैं, जिसके चलते नकलची छात्र परीक्षाएं छोड़ते नजर आए, लेकिन नकल माफिया अभी भी सक्रिय है. अलीगढ़ जिले में तो एक इंटर कॉलेज के प्रबंधक के घर में ठेके पर नकल कराने की ऐसी दुकान चल रही थी कि इसे देखकर लोग हैरान रह गए. मामला अतरौली तहसील के तेबतू स्थित किशन लाल शर्मा इंटर कॉलेज के प्रबंधक के घर पर 12 वीं साइंस के केमिस्‍ट्री के पेपर के लिए उत्‍तर पुस्‍तकाएं लिखी जा रही थीं. सामूहिक नकल की सूचना पर एसडीएम और सीओ ने गुरुवार को छापा मारा, जहां इंटर कॉलेज प्रबंधक के घर पर बाहरी लोग उत्‍तर पुस्‍तिकाएं लिख रहे थे. इस मामले में प्रशासन और पुलिस ने कार्रवाई करते हुए इंटर कॉलेज से तीन छात्राओं समेत 61 से ज्‍यादा लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

कॉलेज के मैनेजर के घर पर लोग लिख रहे थे कॉपियां
पिछले कई दिनों से तेबतू स्थित किशन लाल शर्मा इंटर कॉलेज के प्रबंधक शिव कुमार शर्मा के घर पर नकल होने की सूचनाएं अधिकारियों को मिल रही थीं. इस पर एसडीएम शिवकुमार और सीईओ सुरेश कुमार मलिक ने अपनी टीम के साथ इंटर कॉलेज और प्रबंध‍क शर्मा के आवास पर शाम की पारी के वक्‍त छापा मारा, जहां 61 में लोग नकल करते हुए मिले. नकल विरोधी टीम को देखते हुए ये लोग भागने लगे तो पुलिस ने इन्‍हें गिरफ्तार कर लिया, लेकिन मैनेजर भाग खड़ा हुआ. इस दौरान पुलिस के हाथ एक नकल मा‍फि‍या रामकुमार शर्मा मौके पर ही हत्‍थे चढ़ गया.

आरोपी का भाई जिला निरीक्षक कार्यालय में तैनात, देख रहा परीक्षा का काम
इस नकल के मामले में एक आरोपी का बड़ा भाई जिला विद्यालय निरीक्षक कार्यालय में तैनात है और परीक्षाओं से संबंधित संचालन के कार्य से जुड़ा हुआ है.

बॉन्‍ड भरवाकर लड़कियों को छोड़ा
इस सामूहिक नकल रोकने की कार्रवाई के दौरान नकल में संलिप्‍त तीन लड़कियों को बॉन्‍ड भरवाकर छोड़ दिया गया, वहीं अन्‍य गिरफ्तार लोगों को अतरौली थाने ले जाकर विभिन्‍न धाराओं के तहत कार्रवाई की गई.

3 हजार रुपए में नकल का ठेका
बताया गया है कि नकल के लिए प्रति कॉपी 3000 रुपए लिए गए है. तेबतू स्थित किशन लाल शर्मा इंटर कॉलेज के खिलाफ 2015 में भी सामूहिक नकल का प्रकरण बनाया गया था और परीक्षा केंद्र को रद्द कर दिया गया था. लेकिन, मैनेजर ने फिर से सांठ-गांठ करके स्कूल को परीक्षा केंद्र घोषित करवा लिया.

सेंटर की परीक्षा हुई निरस्त, अलीगढ़ में 60 हजार ने छोड़ी परीक्षा
डीआईओएस धर्मेंद्र शर्मा के मुताबिक, इस कॉलेज में नकल के लिए बोर्ड परीक्षा की पुरानी कॉपियों का प्रयोग किया जा रहा था. सेंटर की परीक्षा निरस्त कर दी गई है. पैसा मांग कर पेपर साल्व कराना और परीक्षा की शुचिता भंग करने के मामले में कार्रवाई की जा रही. डीआईओएस शर्मा ने बताया कि अतरौली क्षेत्र में साढ़े तीन सौ परीक्षा केन्द्र हैं और अलीगढ़ में करीब 60 हजार परीक्षार्थियों ने परीक्षा छोड़ दी है. नकल का पुराना गढ़ रहे अतरौली में सरकार की सख्ती के चलते इस बार नकल माफि‍या के बीच भय है. सीसीटीवी कैमरे लगाने का भी असर हुआ है.