Uttarakhand, death toll, glacial burst, Tapovan tunnel, Chamoli, Joshimath, News: उत्तराखंड (Uttarakhand) के चमोली (Chamoli)जिले में अचानक ग्‍लेशियर फटने (glacial burst) के बाद से आई बाढ़ के बाद तपोवन में फंसे श्रमिकों तक पहुंचने के लिए 13 वें दिन भी बचाव अभियान जारी रहने के बीच शुक्रवार को सुबह मिली जानकारी के मुताबिक, अब तक 62 शव मिल चुके हैं, जबकि बृहस्पतिवार को तीन शव बरामद हुोने, जिससे इस हादसे में मृतकों की संख्या बढ़कर 61 हो गई थी.Also Read - Uttarakhand Polls: कांग्रेस में शामिल हुए BJP से निष्कासित उत्तराखंड के पूर्व मंत्री Harak Singh Rawat

ताज जानकारी के अपडेट के मुताबिक, 142 लोग अब भी लापता हैं और मरने वालों की संख्‍या (death toll) 62 हो चुकी है. बता दें क‍ि बीते 7 फरवरी को ग्‍लेशियर फटने से यह बड़ा हादसा हुआ था. Also Read - Photos: देश में मकर संक्रांति, पोंगल, माघ बीहू, भोगी और उत्तरायण पर्व के ब‍िखरे रंग, लाखों लोगों ने स्‍नान किया

Also Read - SC on Dharam Sansad: धर्म संसद में दिए गए नफरत भरे भाषणों के खिलाफ याचिका पर सुप्रीम कोर्ट ने उत्तराखंड सरकार से मांगा जवाब

डीजीपी अशोक कुमार ने बताया कि उत्तराखंड में ग्लेशियल फटने के बाद अब तक 62 शव बरामद हो चुके हैं.

पुलिस के अनुसार, गुरुवार को एनटीपीसी की बाढ़ प्रभावित तपोवन-विष्णुगढ़ पनबिजली परियोजना की एक सुरंग से दो शव बरामद किए गए, वहीं, एक शव रैनी में मिला था. तपोवन में अब तक 13 श्रमिकों को कीचड़ से भरी सुरंग से बाहर निकाला जा चुका है. हादसे के समय वहां बड़ी संख्या में लोग काम कर थे. गुरुवार को सुरंग से एक मानव अंग भी बरामद किया गया. बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के विभिन्न हिस्सों से अब तक बरामद मानव अंगों की कुल संख्या 27 हो गई है.

सुरंग में पानी इकट्ठा होने से बचाव कार्य में बाधा आ रही थी, लेकिन बुधवार को सुरंग में तलाशी अभियान फिर शुरू किया गया, सेना, आईटीबीपी, एनडीआरएफ और एसडीआरएफ के जवानों के संयुक्त दल द्वारा सुरंग से पानी बाहर निकालने के बाद बुधवार दोपहर को फिर से बचाव अभियान शुरू किया गया.