नई दिल्ली. देश के पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव जितना मैदान में लड़ा जा रहा था, उससे कहीं ज्यादा सरगर्मी सोशल मीडिया के वर्चुअल मैदान पर दिखती थी. आभासी दुनिया का यह मॉडर्न प्लेटफॉर्म पिछले कुछ वर्षों से चुनावी मौसमों में सबसे ज्यादा सक्रिय रहता है. क्या बड़ी, क्या छोटी, सभी पार्टियों के नेता और कार्यकर्ता सोशल मीडिया पर अपने दल के समर्थन में दिन-रात या कह लें 24 घंटे ट्वीट या पोस्ट करते हैं. वाट्सऐप, फेसबुक के साथ-साथ माइक्रो ब्लॉगिंग साइट टि्वटर जैसे माध्यमों के सहारे चुनाव लड़ने की यह नीति, अब पार्टियों के लिए रणनीति का काम करती है. कम से कम मौजूदा विधानसभा चुनावों में यह बात डंके की चोट पर साबित भी हुई है. आपको यकीन न हो तो टि्वटर द्वारा जारी आंकड़ों को देख लें. टि्वटर ने मंगलवार को कहा कि पहली अक्टूबर से 11 दिसंबर के बीच पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों को लेकर 66 लाख से ज्यादा ट्वीट किए गए. यानी करीब ढाई महीनों के दौरान विभिन्न दलों के नेताओं ने चुनावी सभाओं और रैलियों में जितना वक्त गुजारा है, उसके मुकाबले यह आंकड़ा कम नहीं है.

चुनाव संबंधी ट्वीट के बारे में टि्वटर ने अपने बयान में कहा, “टि्वटर ने भारतीय नागरिकों को #AssemblyElectionResults2018 के माध्यम से छत्तीसगढ़, मिजोरम, मध्य प्रदेश, राजस्थान और तेलंगाना के बारे जानकारी दी. इसमें ब्रेकिंग न्यूज से लेकर पर्दे के पीछे तक की बातें, राजनीतिक दलों, उम्मीदवारों जैसे सभी गर्म चुनावी विषय शामिल रहे.” कंपनी ने कहा कि राजनेताओं, विभिन्न दलों ने चुनावी अभियान में ट्विटर का इस्तेमाल करके लोगों से संपर्क साधा. टि्वटर ने कहा कि विधानसभा चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और कांग्रेस अध्यक्ष राहल गांधी का टि्वटर पर सबसे ज्यादा चर्चा हुई. राजस्थान में वसुंधरा राजे की सबसे ज्यादा चर्चा हुई. तेलंगाना में केटीआर, शिवराज सिंह चौहान (मध्य प्रदेश) और छत्तीसगढ़ में डॉ. रमन सिंह सबसे चर्चित रहे.

टि्वटर पर टॉप ट्रेंड में है #AssemblyElection, एक हफ्ते में हुए 12 लाख ट्वीट्स

पिछले महीने के शुरुआती दिनों में भी टि्वटर ने चुनाव संबंधी ट्वीट का आंकड़ा जारी करते हुए कहा था कि सिर्फ एक हफ्ते में 12 लाख से ज्यादा बार विधानसभा चुनाव से संबंधित ट्वीट किए गए. 11 नवंबर को टि्वटर द्वारा दी गई जानकारी में बताया गया था कि टि्वटर पर विधानसभा चुनाव टॉप ट्रेंडिंग रहा है. टि्वटर पर एक हफ्ते में #AssemblyElection से जुड़े 12 लाख से ज्यादा ट्वीट किए गए थे. बड़ी संख्या में चुनावी ट्वीट की रफ्तार को देखते हुए कंपनी ने विधानसभा चुनावों के लिए खासतौर से कई पहलें की थीं. इसके तहत विशेष इमोजी, हैशटैगइलेक्शनऑनट्विटर इवेंट्स के साथ ही प्लेटफार्म पर लाइव क्यूएंडए शुरू किए गए थे.