6th International Yoga Day: आज पूरी दुनिया छठा अंतरराष्ट्रीय योग दिवस मना रही है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने देश को योग दिवस के अवसर पर शुभकामनाएं दी हैं. पीएम मोदी ने आज देश के नाम संदेश दिया और कई बड़ी बातें कहीं. पीएम ने कहा कि यह एक भावनात्मक योग दिवस भी है. आज विश्व के लगभग दो सौ से ज्यादा देश योग दिवस मना रहे हैं. पूरी दुनिया में कोरोना वायरस का कहर है इसलिए इसको ध्यान में रखते हुए इस बार अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की थीम ‘yoga at home & yoga with family’ रखी गई है.Also Read - जानिए क्या है Teleprompter और कैसे करता है काम? जिसे लेकर राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर कसा तंज

पीएम मोदी ने अपने संदेश में कहा कि कोरोना संकट के कारण अब दुनिया योग को और अधिक महत्व दे रही है. पीएम मोदी ने कहा कि योग के माध्यम से ही हम अपने आप में संयम और मन में शांति ला सकते हैं. Also Read - Azadi Ka Amrit Mahotsav: ‘आजादी के अमृत महोत्सव से स्वर्णिम भारत की ओर’ कार्यक्रम की हुई शुरुआत, पीएम मोदी ने किया संबोधित

Also Read - Pariksha Pe Charcha 2022: परीक्षा पे चर्चा के लिये आवेदन की आज आखिरी तारीख, ऐसे भरें फॉर्म

प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना वायरस से लड़ने के लिए हमारी इम्यूनिटी अच्छी होनी चाहिए और इसे बढ़ाने का सबसे अच्छा तरीका योग करना है. उन्होंने कहा इसी के साथ योग से हमें शांति भी मिलती है. पीएम ने कहा कि इम्यूनिटी को बढ़ाने के लिए योग बहुत जरूरी है. पीएम ने कहा कि कोरोना संकट के दौरान लोगों का योग के प्रति लगाव बढ़ा है. पीएम ने कहा कि जब योग के माध्यम से सब लोग जुड़ते हैं तो पूरे घर में ऊर्जा का संचार होता है.

पीएम मोदी ने गीता का उदाहरण देते हुए कहा कि कर्म की कुशलता ही योग का मंत्र है. उन्होंने कहा कि योग के द्वारा हम अधिक कर्मयोगी बन सकते हैं. उन्होंने कहा योग के द्वारा ही हम विपरीत परिस्थितियों पर भी पॉजिटिव सोच रख सकते हैं.

पीएम ने अपने संदेश मे कहा कि जब हम कर्मयोग की भावना से चलते हैं तो हमारी शक्ति कई गुना बढ़ जाती है. उन्होंने कहा कि आज हमें यह संकल्प लेना है कि हम सब के अच्छे स्वास्थ के लिए प्रयास करेंगे. उन्होंने कहा कि हम योगा विद फैमली और योगा ऐट होम को अपने जीवन में अपनाएं. पीएम मोदी ने गीता का उदाहरण देते हुए कहा कि कर्म की कुशलता ही योग का मंत्र है. उन्होंने कहा कि योग के द्वारा हम अधिक कर्मयोगी बन सकते हैं. उन्होंने कहा योग के द्वारा ही हम विपरीत परिस्थितियों पर भी पॉजिटिव सोच रख सकते हैं.