नई दिल्ली: दिवाली और छठ पूजा में घर जाने के लिए टिकट की कमी से जूझ रहे यात्रियों को ध्यान में रखते हुए उत्तर रेलवे 78 विशेष ट्रेनों के माध्यम से त्योहारी सीजन में 2.2 लाख अतिरिक्त बर्थ जोड़ रही है. जोन के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि यात्रियों की संख्या को देखते हुए 15 अक्टूबर से 15 नवंबर के बीच 78 विशेष ट्रेनें चलाई जा रही हैं. ये ट्रेनें त्योहारी सीजन में 519 फेरे लगाएंगी.

उत्तर रेलवे के महाप्रबंधक विश्वेश चौबे ने कहा कि इन विशेष ट्रेनों के सभी फेरों को मिला लिया जाए तो उत्तर रेलवे जोन में विभिन्न गंतव्यों तक जाने वाली ट्रेनों में 2.2 लाख से भी ज्यादा सीटें जुड़ जाएंगी. सभी विशेष ट्रेनों को उनकी रवानगी के वक्त से कम से कम 30 मिनट पहले प्लेटफॉर्म पर लगाया जाएगा ताकि यात्री आराम से उनमें चढ़ सकें. सूत्रों ने बताया कि रेलवे बोर्ड ने उत्तर रेलवे को निर्देश दिया है कि वह इन विशेष ट्रेनों के समय पर गंतव्य तक पहुंचने पर ध्यान दे.

सीट बंटवारे से नाराज हैं उपेंद्र कुशवाहा? बंद कमरे में राजद के तेजस्‍वी यादव से की मुलाकात

इस वर्ष दिवाली सात नवंबर, बुधवार को जबकि छठ पूजा 13 नवंबर को है. वैसे तो दोनों त्योहार पूरे देश में धूमधाम से मनाए जाते हैं, लेकिन छठ पूजा खास तौर से बिहार और उत्तर प्रदेश का सबसे महत्‍वपूर्ण त्‍योहार है. दोनों राज्यों के लाखों लोग राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में काम करते हैं और त्योहार के दौरान सपरिवार अपने गांव जाते हैं.

कृषि कुंभ में बोले पीएम मोदी, किसान ही देश को आगे ले जाता है

रेलवे ने एक बयान में कहा कि वैसे तो सामान्य दिनों में दिल्ली के सभी स्टेशनों से औसतन साढ़े आठ लाख यात्री रोजाना यात्रा करते हैं, लेकिन त्योहारी सीजन में सिर्फ नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से ही करीब छह लाख लोग रोजाना यात्रा करते हैं. सामान दिनों में आनंद विहार टर्मिनल से करीब 50 हजार लोग यात्रा करते हैं जिनकी संख्या त्योहारों में बढ़कर 80 हजार हो जाती है.