नई दिल्ली: सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनियों भारत संचार निगम लि. (बीएसएनएल) और महानगर टेलीफोन निगम लि. (एमटीएनएल) की स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति (वीआरएस) योजना मंगलवार यानी तीन दिसंबर को बंद हो गई. अधिकारियों के अनुसार दोनों कंपनियों के कुल 92,700 कर्मचारियों ने वीआरएस के लिए आवेदन किया है. इसमें बीएसएनएल के 78,300 कर्मचारियों और एमटीएनएल के 14,378 कर्मचारियों ने आवेदन किया है.

बीएसएनएल के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक पी के पुरवार ने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘‘सभी सर्किलों से मिली जानकारी के अनुसार योजना बंद होने के समय तक करीब 78,300 कर्मचारियों ने वीआरएस के लिए आवेदन किया है. यह हमारे लक्ष्य के अनुरूप है. हम करीब 82,000 कर्मचारियों की संख्या घटने की उम्मीद कर रहे हैं. वीआरएस के लिए आवेदन करने वालों के अलावा 6,000 कर्मचारी ऐसे हैं जो सेवानिवृत्त हो गए हैं.’’

सार्वजनिक क्षेत्र की दूरसंचार कंपनियों ने वीआरएस के लिए आवेदन करने की अंतिम तारीख तीन दिसंबर तय की गई थी. एमटीएनएल के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक सुनील कुमार ने कहा कि कंपनी के कुल 14,378 कर्मचारियों ने वीआरएस के लिए आवेदन किया है. ‘‘हमारा लक्ष्य 13,650 कर्मचारियों का था.’’ कुमार ने कहा कि इससे हमारा वार्षिक वेतन बिल 2,272 करोड़ रुपये से घटकर 500 करोड़ रुपये रह जाएगा. उन्होंने कहा, ‘‘अब हमारे पास 4,430 कर्मचारी बचेंगे जो परिचालन के लिए पर्याप्त हैं.’’

(इनपुट भाषा)