नई दिल्ली. लगभग 50 लाख केंद्र सरकार के कर्मचारियों को जल्द ही खुशखबरी मिल सकती है. मोदी सरकार जल्द ही केंद्रीय कर्मचारियों की बहुप्रतीक्षित न्यूनतम वेतन वृद्धि की मांग को 7वें वेतन आयोग से परे जाते हुए पूरा कर सकती है. Sen Times की एक रिपोर्ट के मुताबिक, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 15 अगस्त को लाल किले से अपने भाषण में इसकी घोषणा कर सकते हैं. रिपोर्ट में दावा किया गया है कि प्रधानमंत्री न्यूनतम वेतन में वृद्धि की घोषणा कर सकते हैं. इसके साथ ही रिटायरमेंट उम्र में वृद्धि की भी घोषणा कर सकते हैं. Also Read - अहमदाबाद और सूरत को मेट्रो ट्रेन का तोहफा, पीएम मोदी ने दो परियोजनाओं की आधारशिला रखकर कहा- बदलेगी सूरत

Sen Times ने एक सरकारी अधिकारी का हवाला देते हुए लिखा है, साल 2019 के चुनाव के दबाव को देखते हुए मोदी सरकार ने इशारा किया है कि वह केंद्रीय कर्मचारियों के वेतन को 7वें वेतन आयोग से परे जाते हुए बढ़ा सकती है. सरकार का ऐसा मानना है कि एक केंद्रीय कर्मचारी कम से कम 100 वोटों की व्यवस्था कर सकता है. Also Read - ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन ने G7 शिखरवार्ता के लिए प्रधानमंत्री मोदी को भेजा न्योता, भारत को बताया ‘दुनिया की फार्मेसी’

रिटायरमेंट उम्र भी बढ़ सकती है
रिपोर्ट में कहा गया है कि इसकी घोषणा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 15 अगस्त को लाल किले से कर सकते हैं. इसमें उनकी सैलरी के साथ-साथ रिटायरमेंट की उम्र 60 साल से 62 साल करने की हो सकती है. बता दें कि इससे पहले सरकार ने 7वें वेतन आयोग से परे जाते हुए सैलरी बढ़ाने से इनकार कर दिया था. Also Read - भारत में टीकाकरण शुरू होने पर इस देश के प्रधानमंत्री ने कहा कुछ ऐसा, पीएम मोदी ने दिया ये जवाब

हड़ताल पर जाने वाले थे कर्मचारी
वित्त राज्य मंत्री पी. राधाकृष्णन ने लोकसभा में कहा था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार 7वें वेतन आयोग से परे जाते हुए केंद्रीय कर्मचारियों के वेतन में वृद्धि नहीं करने जा रही है. रिपोर्ट से इनकार करते हुए उन्होंने कहा, सरकार के पास ऐसी कोई योजना नहीं है. रिपोर्ट में कहा गया है कि इसकी खबर सुनकर केंद्रीय कर्मचारियों ने हड़ताल पर जाने की योजना बना ली थी.