7th Pay Commission: भारतीय सेना के तीनों अंगों जल, थल और वायु के लिए हेलीकॉप्टर और विमान बनाने वाली कंपनी हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) के कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जा रहे हैं. एचएएल के कर्मचारी यूनियन ने यह फैसला एचएएल मैनेजमेंट के साथ हुई बेनतीजा बैठक के बाद लिया. कंपनी के कर्मचारी आज यानी सोमवार से हड़ताल पर जा रहे हैं.

दरअसल, एशिया की सबसे बड़ी रक्षा क्षेत्र की पब्लिक सेक्टर यूनिट एचएएल के कर्मचारी लगातार मैनेजमेंट के सामने अपनी मांगों को लेकर अड़े हुए हैं. लगभग 20 हजार कर्मचारी अपने कैफेटेरिया अलाउंस और फिटमेंट अलाउंस को बढ़ाने की मांग कर रहे हैं. कर्मचारी संघ ने बताया कि प्रबंधन ने उनकी मांगों को मानने से इनकार कर दिया है जिसके बाद हमारे पास सिर्फ हड़ताल पर ही जाने का ऑप्शन है.

मोहन भागवत के बयान पर भड़के ओवैसी, कहा- ‘भारत न कभी हिन्दू राष्ट्र था, न है और न बनेगा’

HAL के कर्मचारी जनवरी 2017 से भत्तों को लागू करने की मांग कर रहे हैं. आपको बता दें कि पूरे देश में एचएएल की 16 मैन्युफैक्चरिंग प्लांट हैं और नौ रिसर्च सेंटर भी हैं. मैनेजमेंट ने कर्मचारियों की हड़ताल पर चिंता जताते हुए कहा है कि इससे देश को भारी नुकसान होगा. ऐसा माना जा रहा है कि एचएएल कर्मचारियों की यह हड़ताल देशभर की सभी यूनिट्स पर होगी. यह यूनिट्स इलाहाबाद, नासिक, लखनऊ, बेंगलुरू, हैदराबाद, कोरापुट में हैं.

कर्मचारी संघ और प्रबंधन के बीच हुई बैठक में संघ की कुछ शर्ते मान ली गई है जिसमें एचएएल ने कैफेटेरिया एलाउंस को 22 प्रतिशत कर दिया है और फिटमेंट एलाउंस को 11 प्रतिशत कर दिया है, लेकिन उनकी भत्तों में संशोधन की मांग को प्रबंधन ने खारिज कर दिया है. इसको लेकर कर्मचारी यूनियन 14 अक्टूबर से अनिश्चित कॉलीन हड़ताल के लिए जा रहे हैं. यूनियन संघ का कहना है कि हमारी यह लड़ाई लगभग दो साल से चल रही है और अब इसे हम नतीजे तक पहुचाएंगे.