नई दिल्ली: एक ओर जहां केंद्र सरकार के कर्मचारी सातवें वेतन आयोग (7th Pay Commission) का इंतजार कर रहे हैं. वहीं, मोदी सरकार (Narendra Modi Government) ने स्वास्थ्य सेवाओं (Health Services) से जुड़े कर्मचारियों को बड़ा तोहफा दिया है. स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़े कर्मचारियों की सैलरी में बंपर बढ़ोत्तरी की गई है. इन कर्मचारियों की सैलरी में 4100 से लेकर 5300 रुपए प्रतिमाह बढ़ोत्तरी की गई है. जानकारी के अनुसार ये बढ़ोत्तरी 1 जुलाई, 2017 से मानी जाएगी. इसका मतलब ये हुआ कि कर्मचारियों को 26 माह का एरियर भी मिलेगा. मोदी सरकार के इस फैसले को कर्मचारियों के लिए दीवाली का तोहफा माना जा रहा है.

वास्तविक 5जी के लिए भारत को करना होगा 5-6 साल इंतजार, जानिए क्या है कारण?

केंद्र सरकार द्वारा दिए गए आदेश के मुताबिक़ डॉक्टर्स और नर्स छोड़कर ग्रुप ए और ग्रुप बी के नॉन मिनिस्टीरियल स्‍टाफ को रोगी देखभाल भत्‍ता (Hospital Patient Care Allowance, HPCA) और रोगी देखभाल भत्‍ता (Patient Care Allowance, PCA) दिया जाएगा. इसमें कहा गया है कि सरकार नर्स और डॉक्‍टर को छोड़कर ग्रुप A और ग्रुप B के नॉन मिनिस्टीरियल स्‍टाफ को अस्‍पताल रोगी देखभाल भत्‍ता (Hospital Patient Care Allowance, HPCA) और रोगी देखभाल भत्‍ता (Patient Care Allowance, PCA) देगी. सातवें वेतन आयोग की पे मैट्रिक्‍स लेवल आठ और उससे ऊपर के कर्मचारियों को 4100 रुपए महीना HPCA/PCA मिलेगा. वहीं, लेवल 9 और उससे ऊपर के कर्मचारियों को 5300 रुपए महीना HPCA/PCA मिलेगा.

सरकार के इस फैसले के खिलाफ बैंककर्मी करेंगे हड़ताल, 4 दिन बंद रहेंगे बैंक, निपटा लें ज़रूरी काम

सरकार ने 18 सितंबर को इसका आदेश भी जारी कर दिया है. जानकारी के अनुसार इस कैटेगरी में फार्मासिस्‍ट, लैब टेक्निशियन, लैब ब्‍वॉय, सरकारी फार्मेसी में तैनात कर्मचारी आएंगे, जिनकी संख्‍या हजारों में है. डॉक्‍टर और नर्स इसमें इसलिए शामिल नहीं हैं, क्योंकि उन्हें अलग भत्ता मिलता है.