इटावाः भारतीय जनता पार्टी के पूर्व सांसद राम विलास वेदांती ने बुधवार को यहां कहा कि अयोध्या में राम मंदिर को लेकर सुप्रीम कोर्ट एक हंस तरह ही अपना फैसला सुनाने वाला है. हिन्दू सेवा समिति के श्रीराम की प्रतिमा स्थापना समारोह में यहां हिस्सा लेने पहुंचे वेदांती ने कहा कि “हिंदू सुप्रीम कोर्ट में आस्था रखते हैं. इसीलिए जिस तरह हंस चुनकर निर्णय करता है, उसी तरह सुप्रीम कोर्ट भी दूध का दूध करके फैसला सुनाने वाला है.”

यूपी से राज्यसभा के लिए सुधांशु त्रिवेदी हुए निर्विरोध निर्वाचित, जेटली के निधन के बाद सीट हुई थी खाली

राम जन्म भूमि न्यास के सदस्य रामविलास वेदांती ने कहा, “आज भी देश का 80 फीसद मुसलमान अयोध्या में राम मंदिर बनाने के पक्ष में है. कई लोग अयोध्या में राममंदिर बनाने के लिए सामान लेकर गए थे, उनसे सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार करने को कहा गया है.” वेदांती ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के जजों के हाथ में रिपोर्ट पहुंच चुकी है, और सुप्रीम कोर्ट 17 नवम्बर से पहले राम मंदिर पर फैसला सुना सकती है.

पुष्पेंद्र एनकाउंटर: सपा और पुलिस में ट्विटर वार, झांसी पहुंचे अखिलेश ने कहा- सरकार ने न्याय की चिता जलाई

उन्होंने कहा कि इटावा में श्रीराम की मूर्ति की स्थापना हो रही है, और इसके बाद अयोध्या में श्रीराम की मूर्ति की स्थापना होगी. वेदांती ने आगे कहा कि पीओके (पाकिस्तानी कब्जे वाला कश्मीर) भारत का अभिन्न अंग है और हमेशा रहेगा.