दक्षिण पश्चिम दिल्ली के छावला इलाके में 86 वर्षीय एक महिला के साथ कथित तौर पर बलात्कार का मामला सामने आया है. पुलिस ने मंगलवार को यह जानकारी दी. उन्होंने कहा कि इस घटना के सिलसिले में रेवला खानपुर निवासी आरोपी सोनू (37) को गिरफ्तार किया गया है. वह नलों और पानी की लाइन ठीक करने का काम करता है. पुलिस ने बताया कि यह घटना तब हुई जब बुजुर्ग महिला पास के एक गांव जा रही थी. रास्ते में आरोपी ने महिला को अपनी मोटरसाइकिल पर लिफ्ट देने की पेशकश की. Also Read - पॉस्को में गिरफ्तार व्यक्ति की हिरासत में मौत, दिल्ली पुलिस ने कहा- बेडशीट के सहारे लगाई फांसी

उन्होंने कहा कि उसे उसके गंतव्य पर सुरक्षित रूप से छोड़ने के बहाने, वह उसे एक एकांत क्षेत्र में ले गया और उसके साथ बलात्कार किया. पुलिस उपायुक्त (द्वारका) संतोष कुमार मीणा ने कहा, ‘छावला पुलिस थाने में भादंसं की धारा 376 (बलात्कार) के तहत मामला दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया.’ उन्होंने कहा कि पीड़िता की मेडिकल जांच कराई गई और उसका बयान दर्ज किया गया. Also Read - डोकलाम से दलाई लामा तक की खुफि‍या जानकारी के लिए भारतीय पत्रकार को चीन से होता था भुगतान

पुलिस ने कहा कि महिला की हालत अब स्थिर है. मंगलवार को उसे अस्पताल से छुट्टी दे दी गई. इस बीच, दिल्ली महिला आयोग (DCW) ने इसे बेहद परेशान करने वाला मामला बताया. DCW ने कहा कि महिला के अनुसार, वह सोमवार को शाम करीब पांच बजे दूधवाले का इंतजार कर रही थी तभी आरोपी आया और उससे कहा कि दूधवाला नहीं आएगा और वह उसे वहां ले जाएगा जहां दूध मिलता है. वह महिला को एक खेत में ले गया और फिर उसके साथ बलात्कार किया. Also Read - फ्रीलांस पत्रकार चीनी खुफिया एजेंसी को रक्षा संबंधी गुप्‍त जानकारी देने के आरोप में गिरफ्तार

महिला की चीख पुकार सुनकर स्थानीय ग्रामीण मौके पर पहुंचे और उन्होंने अपराधी को पकड़ कर पुलिस को बुलाया. डीसीडब्ल्यू ने कहा कि स्थानीय लोगों ने उसके बेटे को बुलाया और पुलिस बाद में उसे मेडिकल परीक्षण के लिए ले गई. डीसीडब्ल्यू प्रमुख स्वाति मालीवाल और सदस्य वंदना सिंह ने मंगलवार को छावला में पीड़िता के परिवार वालों से मुलाकात की. उन्होंने कहा, ‘छह महीने की बच्ची से लेकर 90 साल की महिला तक, कोई भी दिल्ली में सुरक्षित नहीं है. इस महिला को जिस तरह के आघात का सामना करना पड़ा, उससे स्पष्ट रूप से यह पता चलता है कि ये अपराधी इंसान नहीं हैं.’

मालीवाल ने कहा, ‘मैं आज उस महिला से मिली, वह बहुत साहसी महिला है. हम सुनिश्चित करेंगे कि उसे न्याय मिले. इस मामले पर तेज कार्रवाई करने की जरूरत है और छह महीने के भीतर न्याय दिया जाना चाहिए.’

(इनपुट: भाषा)