Tamil Nadu News: एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (ADR) और तमिलनाडु इलेक्शन वॉच (TEW) के विश्लेषण से पता चलता है कि हाल ही में संपन्न तमिलनाडु राज्य विधानसभा चुनावों में, आपराधिक आरोपों का सामना कर रहे 144 विजेताओं में से 88 ने अपने बेदाग उपविजेता के खिलाफ चुनाव जीतने में कामयाबी हासिल की. यह रिपोर्ट तमिलनाडु विधानसभा चुनाव, 2021 में सभी 234 निर्वाचन क्षेत्रों के वोट शेयर के विश्लेषण पर आधारित है, जो 6 अप्रैल को हुआ था.Also Read - Thalaiva Rajnikanth का बड़ा ऐलान-राजनीति में नहीं आना मुझे, Rajini Makkal Mandram को भी किया खत्म

इन 88 विजेताओं में से दो ने 45 प्रतिशत से अधिक अंतर से जीत हासिल की है. चेपॉक थिरुवल्लिकेनी निर्वाचन क्षेत्र से द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (डीएमके) उदयनिधि स्टालिन ने 50.47 प्रतिशत जीत के अंतर से जीत दर्ज की. 234 विजेताओं में से 12 महिलाएं हैं और उन सभी ने अपने निर्वाचन क्षेत्रों में 34 प्रतिशत या उससे अधिक वोट शेयर के साथ जीत हासिल की. इन महिला विजेताओं में से, कृष्णरायपुरम निर्वाचन क्षेत्र से द्रमुक उम्मीदवार शिवगामा सुंदरी के ने अपने निर्वाचन क्षेत्र में सबसे अधिक 53.37 प्रतिशत वोट शेयर के साथ जीत हासिल की है और उनकी जीत का अंतर 17.48 प्रतिशत है. Also Read - UP News: उत्तर प्रदेश में 17 सरकारी डॉक्टरों ने दिया इस्तीफा, बोले- सम्मान की जगह अभद्र व्यवहार हुआ

फिर से चुने गए 79 विजेताओं में से कोई भी अपने अपने निर्वाचन क्षेत्रों में 35 प्रतिशत से कम वोट शेयर के साथ नहीं जीता है. कुल 33 (42 प्रतिशत) ने 50 प्रतिशत से अधिक वोट शेयर के साथ जीत हासिल की है. 26 (33 प्रतिशत) फिर से चुने गए विजेताओं ने जीत के 10 प्रतिशत से कम अंतर से जीत हासिल की है जबकि आठ ने जीत के 30 प्रतिशत से अधिक अंतर से जीत हासिल की है. Also Read - UP News: बलिया में पूर्व जिला पंचायत सदस्य की हत्या, बदमाशों ने एसयूवी पर बरसाईं थीं गोलियां

विश्लेषण में कहा गया है कि इस साल तमिलनाडु राज्य विधानसभा चुनावों के विजेताओं ने कुल मतदान के औसत 48.37 प्रतिशत मतों से जीत हासिल की. 2016 के चुनावों में, विजेताओं ने कुल मतदान के औसत 45.67 प्रतिशत मतों से जीत हासिल की थी.

नोटा बटन के उपयोग के बारे में जानकारी देते हुए, जो 2013 में भारत के चुनाव आयोग द्वारा मतदाताओं को अपने निर्वाचन क्षेत्र में सभी उम्मीदवारों को खारिज करने का विकल्प देने के लिए स्थापित किया गया था, विश्लेषण में कहा गया है कि तमिलनाडु विधानसभा में मतदान किए गए 4,62,36,492 मतों में से इस साल नोटा को 3,45,538 (0.75 फीसदी) लोगों ने इस्तेमाल किया. (IANS Hindi)